काफी समय के बाद गेहूं और सरसों की खेती करने वाले किसान को अच्छा दाम मिला है

इसी तरह अब देश में मक्के की खेती करने वाले किसान भी मक्के के अच्छे भाव से काफी खुश है

इस बार किसानों को मक्के की उतपादन कम होने से उम्मीद से भी ज्यादा मिल रहे हैं

देश की प्रमुख मक्का मंडी अकोला जिले का मलकापुर मंडी में मक्के का भाव लगभग प्रति कुंतल 2165 रूपये है

जबकि नेफेड ने इस बार 1830 रुपये प्रति कुंतल का भाव ही तय किया था

और इस मंडी में अब तक 1 लाख 88 हजार कुंतल की अवाक् हो चुकी है

मक्के की उतपादन कम होने की वजह है लार्वा कीटों का अधिक संक्रमण

बीते सालों में लार्वा कीटों के अधिक प्रकोप से क्षेत्र के बहुत से किसान ने मक्के की खेती ही नहीं की

और बहुत से किसानों ने मक्के की खेती का रकबा ही कम कर दिया जिससे उत्पादन काफी कम हुआ

यहीं कारण है की मक्के की कीमत नेफेड से भी ज्यादा मिल रहा है