लौकी की खेती से अधिक उपज लेने के लिए अच्छी उन्नत किश्मों की जरुरत होती है.

अर्का बहार 

लौकी की अर्का बहार किस्म मध्यम आकार की सीधी होती है। जो लगभग एक किलोग्राम तक होती है।

पूसा संदेश

पूसा संदेश किस्म के फल गोलाकार होता है। जो गर्मी में 65 दिन और बरसात में 55 से 60 दिनों में तैयार हो जाती है।

काशी बहार 

काशी बहार किस्म 30 से 32 cm लंबे और 7-8 cm व्यास वाले होते है। जिसका वजन 780 से 850 ग्राम का होता है। इन्हें नदियों के किनारे भी उगाया जा सकता है।

पूसा नवीन 

पूसा नवीन की फलियाँ बेलनाकार की होती है। जिसका वजन 550 ग्राम होता है। इसकी उत्पादन 35 से 40 टन प्रति हेक्टेयर है।

लौकी की काशी गंगा किस्म की बढ़वार मध्यम होती है। यह लौकी करीब 30 cm लंबा और 6-7 cm चौड़ी होती है। जिसका वजन लगभग 800 से 900 ग्राम को होता है।

काशी गंगा

लौकी की पूसा कोमल किस्म 70 दिनों में तैयार हो जाती है। जिसकी औसत पैदावार 450 से 500 क्विंटल प्रति हेक्टेयर होती है।

पूसा कोमल

नरेंद्र रश्मि लौकियों का वजन 1 किलोग्राम होता है। जो छोटे और हल्के हरे रंग के होते है। और इस किस्म की औसत पैदावार 30 टन प्रति हेक्टेयर तक है।

नरेंद्र रश्मि

अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगे तो इसे लाइक और शेयर करें, तथा खेतीबाड़ी से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट upagriculture.in पर विजित करें

लौकी की खेती के बारे में अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें