सहजन की खेती पर 37,000 रुपये प्रति हेक्टेयर की दर से मिल रहा अनुदान

सहजन एक ऐसी फसल है जिसका फल ही नहीं बल्कि इनकी पत्तियां, फूल और बीज  भी औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता है.

बिहार की राज्य सरकार ने प्रदेश में बंजर पड़ी हुई जमीन को उपजाऊ बनाने के लिए सहजन की खेती को बढ़ावा दे रही है.

बिहार की राज्य सरकार ने सहजन की खेती करने वाले किसानों को 50% सब्सिडी देने का निर्णय लिया है.

सहजन की खेती करने से पहले किसानों के समूह बनाये जायेंगे, फिर इसके बाद पायलट प्रोजेक्ट के जरिये इसकी खेती की जाएगी.

इसकी खेती के लिए सरकार ने 74000 हजार रुपये/हेक्टेयर की बजट निर्धारित की है.

जिसमें बंजर जमीन पर सहजन की खेती करने वाले किसान को प्रति हेक्टेयर 37000 हजार रुपये यानि 50% का अनुदान दिया जायेगा.

इसकी खेती के लिए किसानों को सब्सिडी 2 किश्तों में प्रदान की जाएगी. पहले साल 27750 रुपये और दुसरे साल 9250 रुपये.

परन्तु अगर दुसरे वर्ष 90% पौधे ख़त्म हो जांयेंगे तो किसानों को दुसरे किश्त से वंचित होना पड़ेगा.

सहजन की खेती के बारे में पूरी जानकारी के लिए निचे क्लिक करें