लौकी की खेती (lauki ki kheti) पाले को सहन नहीं कर पाती है|

इसलिए इसे सर्दियों के मौसम में नहीं उगाया जा सकता है|

लौकी की खेती के लिए गर्म और आर्द्र जलवायु की जरुरत होती है।

lauki ki kheti के बीज को अंकुरित होने के लिए 30 से 35 डिग्री सेन्टीग्रेड की जरुरत होती है|

तथा इसके पौधों की बढ़वार के लिए 32 से 38 डिग्री सेन्टीग्रेड तापमान सबसे अच्छी होती है।

अधिक तामपान होने पर लौकी के फूल और फल गिराने लगते हैं|

लौकी की खेती जमीन पर तथा मचान बनाकर भी की जाती है|

भारत के मैदानी इलाकों में लौकी की सबसे ज्यादा पैदावार की जाती है।

लौकी की खेती करने के तरीके के बारे में सम्पूर्ण जानकरी के लिए यहाँ क्लिक करें

लौकी की खेती करने के तरीके के बारे में सम्पूर्ण जानकरी के लिए यहाँ क्लिक करें