गर्मियों में बढ़ते तापमान में टमाटर के फूलों को गिरने से रोकने के लिए अपनायें ये आसान तरीका, मिलेंगे डाली डाली पर टमाटर

टमाटर की खेती भारत में सर्दी से लेकर पुरे पुरे गर्मियों तक भरपूर की जाती है. गर्मियों के मौसम में टमाटर की खपत बहुत अधिक होती है. क्योंकि इन दिनों बहुत से स्थानों पर अधिक तापमान के कारण पानी की बहुत किल्लत होती है इसलिए ऐसे स्थानों पर यहाँ पर गर्मियों में टमाटर की खेती करना बहुत डिफिकल्ट हो जाता है.

गर्मियों के बढ़ते तापमान में गर्म हवा और लू चलने के कारण टमाटर के फूल कटकर गिरने लगते हैं. जिससे टमाटर की उपज 60 से 80 प्रतिशत प्रभावित होता है. फूल गिरने का सही इलाज न मिलने के कारण किसान तमाम प्रकार के टमाटर में खाद देते है और फल-फूल की दवा छिड़काव भी करते हैं. लेकिन किसानों का प्रयास विफल हो जाता है.

तो दोस्तों चलिए हम जान लेते हैं की गर्मियों में बढ़ते तापमान में टमाटर के फूलों को गिरने से रोकने के लिए क्या तरीका अपनाना चाहिए.

गर्मियों में बढ़ते तापमान में टमाटर के फूलों को गिरने से रोकने के लिए अपनायें ये आसान तरीका

करें हाइब्रिड टमाटर की खेती

गर्मियों में तापमान बढ़ते और घटते रहते हैं. इन दिनों टमाटर में फूल गिरने का कारण यह होता है की जब दिन का तापमान 35 डिग्री से ऊपर और रात का भी तापमान इसके आसपास हो तब टमाटर की पत्तियों का सिकुड़ना और टमाटर में फूल झड़ना शुरू हो जाता है और इन्हें रोकना बहुत ही मुश्किल होता है.

ऐसे में टमाटर से फूलों को गिरने से रोकने के लिए किसान को चाहिए की हमेशा हाइब्रिड टमाटर की खेती करें, साथ ही ऐसे वैरायटी की टमाटर लगायें जो आपके क्षेत्र और जलवायु के लिए टमाटर की सबसे अच्छी किस्म हो. कभी-कभी किसान किसी भी टमाटर की किस्मों की बुआई कर देते हैं और उनको टमाटर से भरपूर पैदावार नहीं मिल पाता है.

टमाटर में खाद

फसल चाहे कोई भी पौधों की ग्रोथ एवं अधिक पैदावार लेने के लिए टमाटर में खाद का भी बहुत बड़ा योगदान होता है. इसलिए किसान को चाहिए की टमाटर में खाद का प्रयोग उचित मात्र में करें. बहुत से किसान तेजी से टमाटर की ग्रोथ के लिए टमाटर में सल्फर का उपयोग, यूरिया का उपयोग, पोटाश इत्यादि उर्वरकों का प्रयोग करते हैं जिससे टमाटर में फूल झड़ने लगते हैं. इसलिए टमाटर में खाद का उपयोग उचित मात्रा में करना चाहिए, न ही ज्यादा कम करना चाहिए और न ही ज्यादा अधिक.

टमाटर में कैल्शियम की कमी

खेतों में लगे फसल हो या कोई मनुष्य की क्यों न हों, कैल्शियम की कमी होते ही उनमे कमजोरी का आभास होने लगता है. टमाटर में कैल्शियम की कमी के कारण भी टमाटर की उपज पर काफी प्रभाव पड़ता है. अतः टमाटर में फूलों को गिरने से रोकने के लिए कैल्शियम का बहुत बड़ा योगदान होता है.

ऐसे में गर्मियों में बढ़ते तापमान में टमाटर के फूलों को गिरने से रोकने के लिए फूल आते समय कतारों कैल्शियम देकर सिंचाई करनी चाहिये.

टमाटर में बोरान पाउडर का इस्तेमाल

टमाटर की खेती में बोरान पाउडर डालने से टमाटर में फूल अधिक आते है, सर्दियों में टमाटर फटने से बचते हैं और साथ ही टमाटर में फूल झड़ने की समस्या भी ख़त्म होती है. बोरान पाउडर का प्रयोग सिंचाई के समय खाद में मिलाकर मिट्टी में दिया जाता है और इसका पानी में घोल बनाकर टमाटर के पौधे की खड़ी फसल में छिड़काव भी किया जाता है.

टमाटर में फूल झड़ने से रोकने के लिए टमाटर की खेती में फूल आने के समय 25 ग्राम बोरान पाउडर 15 लीटर पानी में घोल बनाकर खड़ी फसल पर छिड़काव करना चाहिए. तथा 1 किलो कैल्शियम में 25 ग्राम बोरान पाउडर मिलाकर प्रति बिस्सा के हिसाब से कतारों में देकर सिंचाई करनी चाहिए.

टमाटर में करें उचित सिंचाई

सब्जियों में अधिक फूल आने, फूल झड़ने से बचाने के लिए, पौधे स्वस्थ रहने तथा कई रोगों से बचने के लिए खेती में उचित तथा समय से सिंचाई का बहुत महत्त्व है. गर्मियों के सीजन में अधिक तापमान, तेज हवा की वजह से पानी की खपत पौधों द्वारा अधिक होती है.

इन दिनों पानी की कमी के कारण टमाटर में फूल बहुत तेजी से गिरने लगते हैं. इसलिए गर्मियों में टमाटर के फूलों को गिरने से रोकने के लिए सिंचाई दो दिन के अंतराल पर करनी चाहिए. इस बात का ध्यान रहे की सिंचाई तभी करें जब खेतों में नमी कम हो, लगातार सिंचाई करने से पौधे तेजी से बढ़ते है और फूल भी गिरते हैं. और सिंचाई हमेशा सुबह या शाम को करनी चाहिए. दोपहर में पानी भरने से धुप के कारण पानी गर्म होता है जो पौधों की जड़ों को नुकसान पहुंचता है.

टमाटर में फल लगने की दवा

टमाटर में फल लगने के लिए सबसे पहले टमाटर में फूल गिरने की समस्या को कम करना होगा, क्योंकि जब टमाटर के पौधे पर फूल झड़ने से रुकेंगे तभी टमाटर में अधिक फल लगेंगे. टमाटर की खेती में अधिक फूल आने तथा फूलों को गिरने से रोकने के लिए शाइन 10 ml + 25 ग्राम बोरान पाउडर प्रति 15 लीटर पानी घोल बनाकर शाम के समय छिड़काव करना चाहिए.

टमाटर में फूल फल बढ़ाने का उपाय

टमाटर में फूल झड़ने की वजह खाद, पानी ही नहीं बल्कि विभिन्न प्रकार के रोग और कीट भी होते हैं. सफ़ेद और हरी मक्खियाँ भी टमाटर की फसल को हानि तो पहुंचाते ही हैं साथ ही इनके अधिक प्रकोप से पौधे कमजोर हो जाते हैं साथ ही सभी फूल गिर जाते हैं. और फूल नहीं रहेंगे तो फल लगने की सम्भावना ही नहीं होती है.

इसलिए टमाटर के फूलों को गिरने से रोकने के लिए तथा अधिक फूल और फल लेने के लिए टमाटर की फसल को रोग और कीट से बचाना चाहिए, और जैसे ही किसी कीट का प्रकोप हो तुरंत दवा का छिड़काव करके टमाटर की फसल को बचाना चाहिए.

FAQ

Q: टमाटर में फल लगने की दवा का नाम क्या है ?

ANS: शाइन.

Q: टमाटर का पौधा कितने दिन में फल देता है ?

ANS: रोपाई के 45 दिन बाद.

Q: टमाटर में झुलसा रोग की दवा बताइए ?

ANS: लूना या मेरिवान.

यह भी पढ़ें:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here