हाइब्रिड प्याज की खेती | pyaj ki kheti kab ki jaati hai | onion ki kheti

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको हाइब्रिड प्याज की खेती के बारे में बताने जा रहे हैं अगर आप pyaj ki kheti करना चाहते हैं तो इस पोस्ट को जरूर फॉलो करें, इस पोस्ट में आपको स्टेप बाई स्टेप जानकारी दी गई है।

भोजन को स्वादिष्ट बनाने के लिए प्याज की जरूरत पड़ती ही है। प्याज एक ऐसी सब्जी है जिसका उपयोग हर गाँव, हर घर और बड़े से बड़े होटेल तथा रेस्टोरेंट में खाने के लिए उपयोग किया जाता है।

pyaj ki kheti

सब्जीयों में कितने ही अच्छे मसाले डाल दें लेकिन प्याज के बगैर भोजन का स्वाद फीका पड़ जाता है। बहुत से लोग प्याज से दाल फ्राई, करते हैं तो बहुत लोग बैंगन का भरता में प्याज डालते हैं।

कभी-कभी ऐसा होता है कि हमारे घर में सभी खाना खत्म हो जाता है तो तत्काल भोजन के लिये प्याज को छोटे-छोटे भागों में काटकर उसमें नमक और सरसों का तेल मिलाकर रोटी से खाते हैं, इसके अलावा भी बहुत तरह से प्याज का उपयोग खाने के लिए किया जाता है।

प्याज की सबसे अच्छी किस्म, हाइब्रिड प्याज का बीज

  • पूसा व्हाइट राउंड
  • नासिक प्याज का बीज N- 53
  • पूसा रेड
  • रतनारा पूछा
  • एग्री फाउंड रोज
  • पूसा व्हाइट फ्लैट
  • कल्याणपुर रैड राउंड
  • अर्का कीर्तिमान
  • F-1 Hybrid seeds onion
  • ब्राउन स्पेनिश
  • एन- 257-1.

प्याज की नर्सरी की देखभाल और तैयारी

यदि किसान भाई रवि के मौसम में हाइब्रिड pyaj ki kheti करना चाहते हैं तो चूंकि प्याज की रोपाई जनवरी-फरवरी में किया जाता है और दिसंबर-जनवरी में ठंड काफी बढ़ जाती है। जिसकी वजह से नर्सरी में बीजों का जमाव बहोत दिनों में होता है और अधिक ठंठ के कारण नर्सरी में पौधे भी काफी धीरे-धीरे बढ़ते हैं।इसलिए प्याज की नर्सरी नवंबर महीने में डाल देनी चाहिए।

और यदि खरीफ के मौसम में हाइब्रिड onion ki kheti करना चाहते हैं तो जून महीने में डाल देनी चाहिए। खरीफ के मौसम में नर्सरी में डाला गया प्याज 35 से 40 दिन में रोपाई के लिए तैयार हो जाता है। बीज रोपाई से पहले नर्सरी में पानी देना बंद कर देना चाहिए जिससे पौधे मजबूत हो जाते हैं.

प्याज की नर्सरी में कौन सा खाद डालें

प्याज की आधुनिक खेती करने तथा अच्छी पैदावार के लिए नर्सरी से ही प्याज की देखभाल शुरू कर देनी चाहिए, और यदि प्याज की नर्सरी में खाद डालने की बात करें तो नर्सरी डालने से पहले ही 1 से 1.5 मीटर लम्बी और लगभग 3 मीटर चौड़ी छोटी-छोटी क्यारी बना लेनी चाहिए. उसके बाद प्रति क्यारी 100 से 150 ग्राम D.A.P. और 10 किलो अच्छी सड़ी हुई गोबर की खाद डालकर गुड़ाई कर देनी चाहिए और फिर उसके बाद इन क्यारियों में प्याज की नर्सरी डालनी चाहिए.

pyaj ki kheti के लिए उचित मौसम और जलवायु और मिट्टी

प्याज की फसल के लिए अगर जलवायु की बात करें तो इसकी खेती के लिए ना तो थोड़े गर्म मौसम की आवश्यकता होती है। इसलिए रवि प्याज की खेती की रोपाई जनवरी-फरवरी में कई जाती है तो अप्रैल महीने में प्याज पककर तैयार होती है और उस समय वातावरण में तापमान 25 से 35 डिग्री सेंटीग्रेड होती है। प्याज की खेती करने के लिए सभी प्रकार की मिट्टी अच्छी मानी जाती है।

प्याज की खेती का समय

किसान भाई प्याज की खेती रवि के मौसम में जनवरी-फरवरी तथा खरीफ के मौसम में अगस्त और सितंबर महीने में कर सकते हैं।

प्याज के पौधे की रोपाई की दूरी

प्याज की अच्छी पैदावार के लिए पौधे की दूरी का खास ध्यान देना चाहिए, अधिक नजदीक पौधे की रोपाई न करें क्योंकि घना रोपाई करने से प्याज की फसल में रोग अधिक लगते हैं। इसलिए पौधे से पौधे की दूरी से 10 से 12 सेंटीमीटर रखनी चाहिए | तथा लाइन से लाइन की दूरी 7 से 8 सेंटीमीटर पर रखनी चाहिए।

प्याज में सिचाई कैसे करें

pyaj ki kheti में सिंचाई ड्रिप तथा नाली दोनों तरीकों से किया जाता है, लेकिन ड्रिप सिंचाई विधि अभी बहुत कम किसान यूज करतें हैं। गांव में रहने वाले लगभग सभी किसान आज भी नालियों की सहायता से सभी फसलों की सिंचाई करते हैं।

अगर किसान भाई नालियों से प्याज की सिंचाई करते हैं तो सबसे पहले उनको प्याज की छोटी-छोटी क्यारियां बना लेनी चाहिए। और प्याज की रोपाई करने के 1 दिन बाद ही 3 दिन के पहले पहली सिंचाई कर देनी चाहिए। उसके बाद 8 से 10 दिनों के अंतराल पर पानी की कमी होने पर हल्की सिंचाई करते रहना चाहिए।

जब प्याज में पूरी तरह से कंद बनकर तैयार हो जाएं तब सिंचाई बन्द कर देनी चाहिए इससे प्याज ठोस और अधिक समय के लिए टिकाऊ होते हैं।

प्याज की खेती में कौन सा खाद डालें

प्याज की रोपाई करने से पहले खेत की आखिरी जुताई के समय ही गोबर की सड़ी हुई खाद या मुर्गियों की खाद, डीएपी, यूरिया, डालकर पाटा चलाकर खेत को समतल बना लेंस चाहिए। उसके बाद रोपाई करने के 25 दिन बाद एक बार फिर डीएपी सुर यूरिया देकर सिंचाई कर देनी चाहिए।

प्याज की खेती में खरपतवार नियंत्रण

प्याज की फसल में खरपतवार की अधिकता होने से तमाम तरह के रोग और कीट लगते हैं। इसलिए प्याज में समय रहते हाथ की सहायता से पतली खुरपी यंत्र से खरपतवार को निकाल देना चाहिए।

प्याज की हार्वेस्टिंग

pyaj ki kheti kab ki jaati hai

pyaj ki kheti के दौरान खेत में जब प्याज की सभी पत्तियां पिली हो जाएँ औए सभी पत्तियां बीच से मुड़कर निचे की और गिर जाएँ तब आपकी प्याज पूरी तरह से पककर तैयार हो जाती हैं. लेकिन एक बात का किसान को ध्यान देना चाहिए की जब प्याज की पत्तिय पिली पड़ने लगे तब सिंचाई बंद कर देनी चाहिए.

प्याज की रखरखाव

पके हुए प्याज को खेत से निकालने के बाद प्याज के कंद को पत्तियों से एकदम अलग कर देना चाहिए उसके बाद घर में किसी छायादार स्थान पर जहाँ हवा आता-जाता हो फैला देना चाहिए, और यदि बेचनी हो तो जूट की बोरियों में भरकर मंडी पहुंचा देनी चाहिए.

पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. प्याज की नर्सरी कितने दिन में तैयार हो जाती है?

ANS. प्याज की नर्सरी 35 से 40 दिन में रोपाई के लिए तैयार हो जाता है।

Q. नासिक प्याज की नर्सरी कब तैयार करें?

ANS. नासिक प्याज की नर्सरी नवंबर महीने में तैयार करें.

Q. प्याज का बीज कितने दिन में उगता है?

ANS. नर्सरी में प्याज का बीज बुआई के बाद सर्दियों में 10 से 12 दिनों में उगता है और बरसात में 8 से 10 दिनों में.

Q. बारिश में कौन सा प्याज लगाना चाहिए?

ANS. बारिश में नासिक प्याज का बीज (नासिक लाल N-53) लगाना चाहिए.

इसे भी पढ़ें

खेत में काम आने वाले औजार

टमाटर के पौधे की देखभाल

बैंगन के पौधे की देखभाल

Previous articleआधुनिक यंत्र जिसका बुवाई में उपयोग होता है | adhunik yantra jiska mein upyog hota hai
Next articleभूमि को उपजाऊ कैसे बनाये | how is soil made fertile

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here