[Pyaj ki kheti-2023] प्याज की खेती की संपूर्ण जानकारी

प्याज की खेती के लिए समशीतोष्ण और वर्षा रहित जलवायु की बहुत ही अनुकूल और सर्वोत्तम होती है. Pyaj ki kheti से अच्छी उपज लेने के लिए फसल को खरपतवार से मुक्त रखना चाहिए, साथ प्याज के कंद की उचित बढ़वार के लिए हल्की सिंचाई करनी चाहिए.

भोजन को स्वादिष्ट बनाने के लिए प्याज की जरूरत पड़ती ही है. प्याज एक ऐसी सब्जी है जिसका उपयोग हर गाँव, हर घर और बड़े से बड़े होटेल तथा रेस्टोरेंट में खाने के लिए उपयोग किया जाता है. सब्जीयों में कितने ही अच्छे मसाले डाल दें लेकिन प्याज के बगैर भोजन का स्वाद फीका पड़ जाता है. बहुत से लोग प्याज से दाल फ्राई, करते हैं तो बहुत लोग बैंगन का भरता में प्याज डालते हैं.

कभी-कभी ऐसा होता है कि हमारे घर में सभी खाना खत्म हो जाता है. तो ऐसे में तत्काल भोजन के लिये प्याज को छोटे-छोटे भागों में काटकर उसमें नमक और सरसों का तेल मिलाकर रोटी से खाते हैं, इसके अलावा भी बहुत तरह से प्याज का उपयोग खाने के लिए किया जाता है. एक तरह से देखा जाय तो इसे कच्चे और पकाकर दोनों तरह से खाने के रूप में उपयोग होता है.

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको बताने जा रहे हैं की प्याज का बीज कैसे बोया जाता है अच्छी पैदावार के लिए प्याज की खेती में किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए. अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मिडिया पर शेयर जरुर करें.

[Pyaj ki kheti-2023] प्याज की खेती की संपूर्ण जानकारी
Contents hide
2 प्याज की नर्सरी कैसे तैयार करें

प्याज का सबसे अच्छा बीज

पूसा व्हाइट राउंड, नासिक लाल प्याज का बीज N- 53, पूसा रेड, रतनारा पूछा, एग्री फाउंड रोज, पूसा व्हाइट फ्लैट, कल्याणपुर रैड राउंड, अर्का कीर्तिमान, F-1 Hybrid seeds onion, पंचगंगा प्याज का बीज, ब्राउन स्पेनिश, एन- 257-1 ये सब प्याज की सबसे अच्छी किस्म हैं. लेकिन हाइब्रिड प्याज की खेती से अच्छी उपज के लिए अपने क्षेत्र में निर्धारित किश्मों का ही चयन करना चाहिए.

प्याज की नर्सरी कैसे तैयार करें

यदि किसान भाई रबी के लिए प्याज की खेती करना चाहते हैं. तो प्याज की रोपाई जनवरी-फरवरी में किया जाता है. और दिसंबर-जनवरी में ठंड काफी बढ़ जाती है. जिसकी वजह से नर्सरी में बीजों का जमाव बहोत दिनों में होता है और अधिक ठंठ के कारण नर्सरी में पौधे भी काफी धीरे-धीरे बढ़ते हैं. इसलिए प्याज की नर्सरी नवंबर महीने में डाल देनी चाहिए.

प्याज की नर्सरी कैसे डालें

अगर खरीफ के मौसम में बरसात में बरसाती प्याज की खेती करना चाहते हैं. तो बरसाती प्याज की नर्सरी जून महीने में 30 जून से पहले डाल देनी चाहिए. खरीफ के मौसम में नर्सरी में डाला गया प्याज 35 से 40 दिन में रोपाई के लिए तैयार हो जाता है. इस बात का ध्यान रखना चाहिए की बीज रोपाई से लगभग 10 दिन पहले नर्सरी में पानी देना बंद कर देना चाहिए जिससे पौधे मजबूत हो जाते हैं. और इसमें रोग कम लगते हैं.

प्याज की नर्सरी में कौन सा खाद डालें

प्याज की आधुनिक खेती करने तथा अच्छी पैदावार के लिए नर्सरी से ही प्याज की देखभाल शुरू कर देनी चाहिए, और यदि प्याज की नर्सरी में खाद डालने की बात करें तो नर्सरी डालने से पहले ही 1 से 1.5 मीटर लम्बी और लगभग 3 मीटर चौड़ी छोटी-छोटी क्यारी बना लेनी चाहिए. उसके बाद प्रति क्यारी 100 से 150 ग्राम D.A.P. और 10 किलो अच्छी सड़ी हुई गोबर की खाद डालकर गुड़ाई कर देनी चाहिए और फिर उसके बाद इन क्यारियों में प्याज की नर्सरी डालनी चाहिए.

प्याज की खेती के लिए जलवायु और मिट्टी

प्याज की फसल के लिए अगर जलवायु की बात करें तो इसकी खेती के लिए तो थोड़े गर्म मौसम की आवश्यकता होती है. इसलिए रवि प्याज की खेती की रोपाई जनवरी-फरवरी में कई जाती है. तो अप्रैल महीने में प्याज पककर तैयार होती है और उस समय वातावरण में तापमान 25 से 35 डिग्री सेंटीग्रेड होती है. और खरीफ प्याज की खेती जुलाई में की जाती है सितम्बर-अक्तूबर में पककर तैयार हो जाती है. प्याज की खेती करने के लिए सभी प्रकार की मिट्टी अच्छी मानी जाती है.

प्याज के पौधे की रोपाई की दूरी

प्याज की अच्छी पैदावार के लिए पौधे की दूरी का खास ध्यान देना चाहिए, अधिक नजदीक पौधे की रोपाई न करें क्योंकि घना रोपाई करने से प्याज की फसल में रोग अधिक लगते हैं. इसलिए पौधे से पौधे की दूरी से 10 से 12 सेंटीमीटर रखनी चाहिए. तथा लाइन से लाइन की दूरी 7 से 8 सेंटीमीटर पर रखनी चाहिए.

प्याज में कितने दिन में पानी देना चाहिए?

Pyaj ki kheti में सिंचाई ड्रिप तथा नाली दोनों तरीकों से किया जाता है, लेकिन ड्रिप सिंचाई विधि अभी बहुत कम किसान यूज करतें हैं. गांव में रहने वाले लगभग सभी किसान आज भी नालियों की सहायता से सभी फसलों की सिंचाई करते हैं,

अगर किसान भाई नालियों से प्याज की सिंचाई करते हैं तो सबसे पहले उनको प्याज की छोटी-छोटी क्यारियां बना लेनी चाहिए. और पहली सिंचाई प्याज की रोपाई करने के 1 दिन बाद या 3 दिन के पहले कर देनी चाहिए. उसके बाद 8 से 10 दिनों के अंतराल पर पानी की कमी होने पर हल्की सिंचाई करते रहना चाहिए.

प्याज की आखिरी सिंचाई कब करें?

जब प्याज में पूरी तरह से कंद बनकर तैयार हो जाएं इनकी पत्तियाँ ऊपर से हल्की पीली पड़ने तब प्याज में सिंचाई बन्द कर देनी चाहिए. इससे प्याज अच्छी तरह से पकते हैं तथा ठोस और अधिक समय के लिए टिकाऊ होते हैं.

प्याज की खेती में कौन सा खाद डालें

प्याज की रोपाई करने से पहले खेत की आखिरी जुताई के समय ही गोबर की सड़ी हुई खाद या मुर्गियों की खाद, डीएपी, यूरिया, डालकर पाटा चलाकर खेत को समतल बना लेना चाहिए. उसके बाद रोपाई करने के 25 दिन बाद एक बार फिर डीएपी और यूरिया देकर हलकी सिंचाई कर देनी चाहिए.

प्याज की खेती में खरपतवार नियंत्रण

प्याज में खरपतवार की अधिकता होने से तमाम तरह के रोग और कीट लगते हैं. इसलिए प्याज में समय रहते हाथ की सहायता से पतली खुरपी यंत्र से खरपतवार को निकाल देना चाहिए. प्याज की फसल को खरपतवार से मुक्त रखने पर प्याज के कंद का साइज भी बढ़ता है.

प्याज के रोग

प्याज की फसल में लीफ माइनर के प्रकोप से पौधों को बहुत हानि होती है. इसके प्रकोप से पौधों की पत्तियां प्रभावित होती हैं जिससे पौधों का विकास रूक जाता है. प्याज की फसल को लीफ माइनर कीटों से बचाने के लिए बायो AK-57 25 ml दवा 15 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करना चाहिए. तथा झुलसा रोग से बचने के लिए मिराडोर 15ml/15 लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव करना चाहिए.

प्याज की हार्वेस्टिंग
प्याज का बीज कैसे बोया जाता है | प्याज बोने का समय | Pyaj-ki-kheti

Pyaj ki kheti के दौरान खेत में जब प्याज की सभी पत्तियां पिली हो जाएँ औए सभी पत्तियां बीच से मुड़कर निचे की और गिर जाएँ तब आपकी प्याज पूरी तरह से पककर तैयार हो जाती हैं. और उसे खेत नई निकालकर घर पर स्टोर करें या मंडियों में बेच सकते हैं. लेकिन एक बात का किसान को ध्यान देना चाहिए की जब प्याज की पत्तियाँ पिली पड़ने लगे तब सिंचाई बंद कर देनी चाहिए.

प्याज की रखरखाव

पके हुए प्याज को खेत से निकालने के बाद प्याज के कंद को पत्तियों से एकदम अलग कर देना चाहिए उसके बाद घर में किसी छायादार स्थान पर जहाँ हवा आता-जाता हो फैला देना चाहिए, और यदि बेचनी हो तो जूट की बोरियों में भरकर मंडी पहुंचा देनी चाहिए.

पूछे जाने वाले प्रश्न के उत्तर

Q1. प्याज की रोपाई कितने दिन में होती है?

ANS. प्याज की नर्सरी 35 से 40 दिन में रोपाई के लिए तैयार हो जाता है.

Q2. नासिक प्याज की नर्सरी कब तैयार करें?

ANS. नासिक प्याज की नर्सरी नवंबर महीने में तैयार की जाती है.

Q3. प्याज का बीज कितने दिन में उगता है?

ANS. नर्सरी में प्याज का बीज बुआई के बाद सर्दियों में 10 से 12 दिनों में उगता है और बरसात में 8 से 10 दिनों में.

Q4. बारिश में कौन सा प्याज लगाना चाहिए?

ANS. बारिश में नासिक प्याज का बीज (नासिक लाल N-53) लगाना चाहिए.

Q5. एक बीघा में प्याज का बीज कितना लगता है?

ANS. एक बीघा खेत के लिए 700 से 800 ग्राम प्याज के बीज की आवश्यकता होती है.

Q6. 1 एकड़ में प्याज की कितनी पैदावार होती है?

ANS. प्रति एकड़ प्याज की पैदावार 20 टन से भी अधिक होती है.

Q7. प्याज का कंद बढ़ाने के लिए क्या डालें?

ANS. प्याज का कंद बढ़ाने के लिए यूरिया, डीएपी एवं पोटाश का प्रयोग करना चाहिए.

इसे भी पढ़ें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here