जहरीले कीटनाशकों के स्प्रे बचें किसान वर्ना हो सकता जान को खतरा, जानें पूरी बात

आज के समय लगभग सभी किसान फसलों को रोग और कीटों से बचाने तथा अधिक उत्पादन लेने के लिए रासायनिक कीटनाशकों का स्प्रे करते हैं. लेकिन उनकी थोड़ी सी लापरवाही के कारण किसानों और मजदूरों की जान भी जा सकती है. ऐसे में किसान और मजदूर स्वस्थ रहें, इसके लिए किसान भाइयों को कुछ मत्वपूर्ण बातों को ध्यान में रखना बहुत ही जरुरी हैं. तो दोस्तों चलिए हम लेते हैं की जहरीले कीटनाशकों के स्प्रे से कैसे बचा जा सकता है. अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें.

जहरीले कीटनाशकों के स्प्रे बचें किसान वर्ना हो सकता जान को खतरा

जहरीले कीटनाशकों के स्प्रे हो सकता जान को खतरा

भारत दुनिया का सबसे बड़ा कृषि प्रधान देश है. और यहाँ सबसे अधिक खेतीबाड़ी होने के कारण फसलों से अत्यधिक पैदावार लेने के लिए सबसे ज्यादा रासायनिक कीटनाशकों का छिड़काव भी किया जाता है. लेकिन अंधाधुंध स्प्रे के चक्कर में किसान यह भूल जाते हैं की उन खतरनाक दवाओं का उनके स्वास्थ्य पर बहुत भयंकर विपरीत प्रभाव पड़ता है. और उनकी थोड़ी सी लापरवाही से जान को खतरा भी हो सकता है.

जहरीले कीटनाशकों के स्प्रे से बचने के उपाय

खेतीबाड़ी में जहरीले कीटनाशकों के अधिक उपयोग से बचने के लिए किसानों को चाहिए की किसी भी फसल की बुआई करने से पहले आप जिस राज्य में खेती कर रहे हैं उस राज्य के मौसम और जलवायु के अनुकूल उन्नत, रोगरोधी एवं अच्छे क्वालिटी के हाइब्रिड बीजों का चयन करें. साथ ही फसलों की बिजाई उचित दूरी पर करना चाहिए. कम क्षेत्र में अधिक बीजों की बुआई करने से भी रोग और कीट अधिक लगते हैं जिससे किसान जहरीले कीटनाशकों का स्प्रे करने के लिए बजबूर हो जाते हैं.

अगर किसान अच्छे बीजों का अनुकूल जलवायु और मौसम में तथा उचित मात्रा में फसलों की बुआई करते हैं तो किसान महंगे कीटनाशक के खरीदारी से बाख सकेंगे. जिससे उनका समय और धन दोनों बचेगा साथ ही खेत बंजर होने से बचा सकेंगे और उनका स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा.

जहरीले कीटनाशकों के स्प्रे से कैसे बचें

  • फसल में जिस रोग के लिए जितनी आवश्यकता हो उतने ही रसायन का स्प्रे करें.
  • आवश्यकता से अधिक डोज का घोल तैयार नहीं करना चाहिए.
  • दवाओं को खरीदते समय पैकेजिंग और अंतिम तिथि अवश्य जाँच लें.
  • कीटनाशक दवाओं को घर लेन के बाद बच्चों, खाने-पीने की वस्तुओं, पशुओं से दूर सुरक्षित स्थान पर रखें.
  • कीटनाशक का घोल बनाने के बाद डिब्बों या बोतलों को जमीन में कुछ निचे दबा दें या जला दें या ऐसी जगह फेकें जहाँ कोई जाता न हो.
  • स्प्रे हमेशा सुबह या शाम को तथा हवा के रुख को देखकर उसी दिशा में करना चाहिए.
  • कीटनाशकों का छिड़काव करने से पहले हाथ, पैर, मुख और पुरे शरीर को अच्छी तरह ढक लेना चाहिए.

यह भी पढ़िए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here