haryana bakri palan subsidy yojana 2022

आजकल हर कोई व्यक्ति बिजनेस शुरू करके पैसा कमाना चाहते हैं। क्योंकि पैसा होगा तभी अपना सपना साकार कर पाएंगे। बिजनेस तो हर कोई करना चाहता है लेकिन कोई भी बिजनेस शुरू करने से पहले उनको यह दिक्कत होती है कि कहीं उसमे घाटा न लग जाये।

गाँव मे रहने वाले लोग चाहे किसान हो या कोई भी बेरोजगार युवक उनको आज हम ऐसे ही एक जबरदस्त बजनेस के बारे में बताने जा रहे हैं। घाटा लगने का कोई सवाल हैं नही उठता है।

जी हां आज हम आपको बकरी पालन ब्यवसाय के बारे में बताने जा रहे हैं। यह एक ऐसा व्यवसाय है जिसमे सड़ने, गलने या डेट एक्सपायरी की कोई लिमिट नहीं होती है। और न ही इनको बेचने के लिए ग्राहक ढूढ़ने की चिंता होती है।

तो दोस्तों चलिए हम जानते हैं कि बकरी पालन का ब्यवसाय शुरू करने के लिए सरकार द्वारा मिलने वाले सब्सिडी का लाभ कैसे लें और बकरी पालन पर सब्सिडी किन वर्ग के किसानों कितना प्रतिशत दिया जाएगा।

बकरी पालन व्यवसाय

गांव में रहने वाले पशुपालक किसान भाइयों के लिए बकरी पालन करने का एक सुनहरा अवसर मिला है। बकरी का बिजनेस बहुत ही कम पूंजी में शुरू करके ज्यादा मुनाफा कमाया जा सकता है।

इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए बहुत अधिक जगह की आवश्यकता नहीं पड़ती है। और यदि कोई भी पशुपालक बकरी पालन व्यापार की शुरुआत करना चाहते हैं तो इसकी शुरुआत सबसे पहले अपने घर से करें।

अब तो पशुपालक भाइयों को बकरी पालन ब्यवसाय के लिए हरियाणा में सब्सिडी भी दी जा रही है। जो भी पशुपालक किसान इस बिजनेस को करना चाहते है वह सब्सिडी के लिए आवेदन कर सकते हैं।

बकरी पालन योजना क्या है

बकरी और भेड़ पालन करने वाले किसानों की आय को बढ़ाने तथा स्वरोजगार बनाने के लिए हरियाणा सरकार ने राज्य के किसानों के लिए बकरी और भेड़ पालन योजना लांच की है।

पशुपालन विभाग की ओर से यह सूचना मिली है कि जो जिन पशुपालकों के पास लगभग 15 मादा बकरी और भेंड़ के साथ नर बकरी और भेंड़ पालते हैं। ऐसे पशुपालकों को सरकार की ओर से सब्सिडी दिया जाएगा।

बकरी पालन बिजनेस से लाभ

बकरी पालन बिजनेस को यदि बड़े पैमाने पर किया जाय तो इससे महीने में लाखों रुपये कमाए जा सकते हैं। क्योंकि ये 1 साल में दो बार बच्चे को जन्म देती है। और यदि आप 1 महीने में 10 बकरे बेचते हैं तो प्रति बकरा 10 हजार रुपए के हिसाब से 1 लाख रुपये की आमदनी होगी।

बकरी को मांस के लिए तो उपयोग किया ही जाता है साथ ही इसका दूध भी बाकी पशुओं की अपेच्छा बहोत महंगा बिकता है। बकरी का दूध बहुत सी बीमारियों को खत्म करने में काफी कारगर होता है। इसलिए मांस के साथ इसका दूध बेचकर भी काफी अच्छी कमाई किया जा सकता है।

अन्य पशुपालन की तुलना में इसमे रोग लगने की संभावना बहुत कम होती है। और बकरी पालन के लिए कोई खास जानकारी की आवश्यकता भी नहीं होती है।

इस बिजनेस की सबसे अच्छी बात यह है कि यदि कोई मुसीबत आती है और तत्काल पैसों की जरूरत पड़ती है तो इसे बेचकर अपनी जरूरतों को पूरा किया जा सकता है। किसी से कर्ज लेने की आवश्यकता नहीं होती है।

सूखे स्थानों पर बकरी पालन

जिन स्थानों पर बारिश बहुत कम होती है वहाँ के किसान चाहे तो खेतीबाड़ी के साथ बकरी पालन करके दोहरा मुनाफा कमा सकते हैं।

अगर आप बकरी पालन करते हैं तो आपको बता दें कि बकरियों को बेचने के लिए कहीं भागदौड़ करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। आपके आसपास के बाजार में रहने वाले ब्यापारी बकरा खरीदने के लिए हमेशा गाँव-गाँव घूमते रहते हैं।

बकरी पालन बिजनेस के लिए आवेदन की प्रक्रिया

हरियाणा राज्य के जो पशुपालक बकरी पालन बिजनेस पर सब्सिडी प्राप्त करना चाहते हैं तो अपने नजदीकी csc सेंटर से सरल पोर्टल के माध्यम से आवेदन के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

एक बार आवेदन प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद उसके बाद पशुपालन विभाग द्वारा जानकारी सही होने पर आवेदक के आवेदन को स्वीकृति दे दी जाती है। और लोन पास होने में कोई दिक्कत नहीं होती है।

किसको कितना मिलेगा अनुदान

  1. एससी वर्ग के लिए 90 % सब्सिडी
  2. सामान्य वर्ग के लिए 25 % सब्सिडी

हरियाणा राज्य का कोई भी पशुपालक जनके पास 5 से लेकर 20 या इससे अधिक बकरी या भेंड़ हैं ऐसे सभी किसान haryana goat farm के लिए आवेदन करके इस योजना का बेझिझक लाभ ले सकते हैं।

बकरी पालन लोन किसलिए मिलता है

बकरी पालन बिजनेस के लिए लोन केवल ऐसे किसानों को दिया जाता है जो मिलने वाले लोन को केवल बकरी पालन से सम्बंधित कार्यों के लिए उपयोग करते हैं।

जैसे- बकरी की खरीदारी करने के लिए, बकरियों को चारा खरीदने के लिए, बकरी को रहने वाले स्थान पर टिन शेड या फार्म बनाने के लिए।

लोन लेने से पहले पशुपालक को बकरी पालन के लिए प्रोजेक्ट तैयार करना पड़ता है। उसके बाद बैंक से मिलने वाले लोन की धनराशि का निर्धारण पशुपालक के व्यवसाय की लिमिट और आवेदक की प्रोफाइल के हिसाब से दिया जाता है।

पशुपालक को लोन लेने से पहले बकरी पालन बिजनेस का एक प्रोजेक्ट बनाना होता है जिसमें बकरी पालन से संबंधित सभी प्रकार के जानकारी होनी चाहिये।

जैसे-

  • क्षेत्र या स्थान का विवरण
  • इसमे लगने वाले सभी उपकरण की पूरी डिटेल
  • चालू करने से पहले वर्किंग कैपिटल आपके खर्च
  • बकरियों की नस्ल की जानकारी
  • मार्केट स्ट्रैटजी इत्यादि।

आवेदन हेतु जरूरी दस्तावेज

  • एससी / एसटी / ओबीसी हो तो जाति प्रमाण पत्र,
  • आधार कार्ड
  • मोबाइल नंबर
  • पेन कार्ड
  • बैंक विवरण
  • आवेदक का पता
  • बिजनेस प्लान
  • निवासी प्रमाण पत्र
  • रंगीन पासपोर्ट साइज फोटो
  • बिजनेस स्थान से संबंधित प्रमाण-पत्र
  • आय प्रमाण-पत्र

FAQ

Q- बकरी पालन के लिए कौन सी बैंक लोन देती है?

ANS- राज्य सहकारी बैंक, राज्य सहकारी कृषि और ग्रामीण विकास बैंक, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया बकरी पालन लोन, कॉमर्शियल बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, शहरी बैंक, केनरा बैंक,आईडीबीआई बैंक.

Q- बकरी कौन सी अच्छी होती है?

ANS- बरबरी बकरी, बीटल बकरी, ओस्मानाबादी, जमुनापारी इत्यादि.

Q- बकरी की आयु कितनी होती है?

ANS- 12 – 15 वर्ष

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here