Home कृषि आईडिया गमले में धनिया कैसे उगाया जाता है | 4 दिन में धनिया...

गमले में धनिया कैसे उगाया जाता है | 4 दिन में धनिया कैसे उगाये

गमले में धनिया कैसे उगाया जाता है | 4 दिन में धनिया कैसे उगाये

धनिया कैसे उगाये गमले में | धनिया कब बोया जाता है | गमले में धनिया कैसे उगाया जाता है | 4 दिन में धनिया कैसे उगाये | dhaniya kab boya jata hai | gamle me dhaniya kaise ugaye | जुलाई में धनिया की खेती कैसे करें | साबुत धनिया के फायदे | धनिया उगाने में कितने दिन लगते हैं

धनियाँ की पत्ती हमारे भोजन को बहोत ही स्वादिस्ट बना देती. कभी-कभी ऐसा होता है की हमारा खाना ख़त्म हो जाता है, और ऐसे में जब भूख लगती है तो फिर से खाना बनाने में काफी समय लगता है. या बहुत से लोग ऐसे होते हैं जिनको खाना बनाने नहीं आता. परन्तु ऐसे में अगर आपके पास हरी धनिया की पत्ती हा तो आप धनियाँ की चटनी बनाकर रोटी के साथ या चावल के साथ खाकर अपनी भूख मिटा सकते हैं.

लेकिन अब बात आती है की हरी धनिया हमें तत्काल मिलेगा कैसे, तो दोस्तों इसके लिए आपको बाजार जाने और पैसे खर्च करने की जरूरत नहीं है. आप अपने घर पर ही गमले में धनिया की खेती करके इसका खाने में उपयोग कर सकते हैं. नमस्कार दोस्तों आज हम आपको गमले में धनिया कैसे उगाया जाता है इसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी देने जा रहे हैं. अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें.

धनिया के बीज

घर पर धनियाँ उगने के लिए सबसे पहले आपको धनियाँ के बीज की जरूरत तो पड़ेगी ही, और किसी भी कृषि बीज भंडार की दुकान से आप धनिया के बीज खरीद सकते हैं. लेकिन ध्यान रहे की आप जब भी धनिया के बीज खरीदें देशी बीज ही खरीदें. क्योंकि बहुत बार ऐसा होता है की जो हरी धनिया की पत्ती हम खाने में डालते है. वो देखने में तो बहोत अच्छे होते हैं. किन्तु एक हरी धनिया में जो खुशबू रहना चाहिए वह नहीं होता है. इसके अलावा आप किराना की दुकान से भी धनिया के बीज को खरीदकर गमले में लगा सकते हैं. किराना की दुकान पर मिलने वाले धनिया के बीज देसी बीज होते है. इन बीजों से जमने वाले हरी धनियाँ की पत्ती बहुत खुशबूदार होते हैं.

धनिया के बीज अंकुरित कैसे करें

4 दिन में धनिया उगाना चाहते हैं तो इसके लिए सबसे पहले आपको बीजों को अच्छी तरह सुखा लेनी चाहिए, उसके बाद धनिया का बीज को किसी ईंट या छोटे पत्थर के टुकड़े से रोटी बनाने वाले बेलन से जो थोड़े वजन हों बीजों को रगड़कर(दरकर) दो भागों में कर लेनी है. इसके बाद धनिये के बीजों की बुआई करने से पहले उनको अंकुरित करना बहोत ही आवश्यक है.

बीजों को अंकुरित करके गमले में धनियाँ की बुआई करने से से पत्तियां बहुत जल्द निकल आते हैं. धनिये के बीज को अंकुरित करने के लिए जुट की बोरी या सूती कपड़े में धनिया के बीज को अच्छे से बांधकर उनकी पोटली बना लें. इसके बाद उनको पानी में भिगो लें, फिर राख या बालू को भिगोंकर इसमें धनिये की पोटली को 3 से 4 दिन के लिए गाड़ दें और समय-समय पर पानी का छिड़काव करते रहें ताकि बालू और पोटली में नमी बनी रहे और धनिये के बीज में अंकुरण अच्छा हो.

4 दिन में धनिया कैसे उगाये

अंकुरित धनिये के बीज को आप अपने घर पर गमलों में, प्लास्टिक की बोरियों को पोलिबैग बनाकर या घर के पास गार्डन में छोटी सी क्यारी बनाकर बुआई कर सकते हैं. घर पर धनियाँ की बुआई करने के लिए गमले की मिट्टी को उपजाऊ अवश्य कर लें. अगर आप गमलों में या पोलिबैग में धनिया की बुआई कर रहे हैं.

तो इनमे उपजाऊ मिट्टी को भरने के बाद धनिये के अंकुरित बीज को बिखेर से उसके बाद कोकोपिड, राख या मिट्टी को भुरभुरी करके इनमे से किसी एक से बीजों को ढक दे. और हल्की पानी का छिड़काव कर दे.इस प्रकार आप देखेंगे की 4 से 5 दिन में धनिये में हरी पत्तियां दिखने लगेंगी. और 20 से 25 दिन में हरी धनिया को आप अपने भोजन में उपयोग कर सकते है.

FAQ

Q1. चार दिन में धनिया कैसे उगाये?

ANS. अगर आप घर चार दिन में धनियाँ उगाना चाहते हैं तो, धनिये के बीज को सबसे पहले अंकुरित करना होगा उसके बाद धनिया लगाने से बहोत जल्दी उगेंगे.

Q2. धनिया का बीज कितने दिन में उगता है?

ANS. यदि आप धनिये के बीज को धनिया के बीज को अंकुरित करके बुआई करते हैं तो 5 दिन में में उगता है परन्तु अगर बगैर अंकुरित किये धनिया की बुआई करते हैं तो लगभग 10 से 12 दिन बाद अंकुरित होते हैं।

Q3. धनिया बोने का सही समय क्या है?

ANS. धनिया की बुआई अक्टूबर से लेकर जून तक किसी भी महीने में कभी भी किया जा सकता है.

Q4. धनिया पीला क्यों पड़ता है?

ANS. गमले में पानी अधिक होने के कारण धनियाँ पीली हो जाती हैं.

Q5. धनिया के बीज कैसे होते हैं

ANS. धनिया के बीज गोल आकार के होते हैं जिसके एक दाने में 2 बीज होता हैं.

इसे भी पढ़िए…

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version