गमले में बैंगन कैसे लगाएं | how to plant eggplant in pot eggplant

कुछ लोग ताजी सब्जियों के बहुत शौकीन होते हैं तो कुछ लोग मार्किट काफी दूर होने के कारण घर पर ही गमले में सब्जियां उगाकर(how to grow brinjal at home) ताजे एवं स्वस्थ भोजन खाना पसंद करते हैं. परन्तु बहुत से लोग ऐसे भी हैं जो baingan ka plant घर पर तो लगाना चाहते हैं लेकिन जानकारी न होने के कारण उनको यह नहीं पता होता है की घर पर baingan ka paudha kaise lagaen.

तो दोस्तों आज हम आपको घर पर 100% केमिकल फ्री गमले में बैंगन(how to plant brinjal at home) उगाने की जानकारी देने जा रहे हैं. अगर आप भी जानना चाहते हैं की गमले में बैंगन कैसे लगाएं तो इस पोस्ट को जरुर पढ़ें. यदि यह जानकारी अच्छी लगे तो आप इसे और लोगों के साथ शेयर जरूर करें.

गमले में बैंगन कैसे लगाएं

बैंगन का भरता लोगों का बहुत ही पसंदीदा भोजन है, और आज के दौर में देखा जा रहा है की शादी-विवाह, बर्थडे पार्टी या अन्य प्रोग्रामों में भी बैंगन का भरता बनाया जाता है. ऐसे में लोग बैगन को खरीदने सब्जी मंडी या बाजार जाते हैं, लेकिन उसमें तमाम तरह के हानिकारक केमिकल का छिड़काव किया गया होता है. जो स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं होता है, ऐसे में यदि आप केमिकल फ्री बैंगन की सब्जी या बैंगन का भर्ता खाना चाहते हैं तो घर पर ही baigan ka ped थोड़ी मेहनत करके गमले में बैंगन लगाकर उगा सकते हैं.

Contents hide
3 बैंगन की प्रजाति का चुनाव(seeds in pot)

गमले में बैंगन का पौधा लगाने के लिए सामग्री(brinjal plant in pot)

  • बड़े आकार का गमला
  • अच्छे प्रजाति के बीज
  • खेत की उपजाऊ काली मिट्टी
  • पौधे की ग्रोथ के लिए खाद
  • सिंचाई के लिए पानी

बैंगन लगाने के लिए गमले का चयन

घर पर baigan ka paudha लगाने के लिए गमले के साइज़ का भी ध्यान देना चाहिए, चूंकि बैगन का पौधा बाकि सब्जियों की अपेच्छा अधिक बड़ा होता है जिससे इसकी जड़ें अधिक गहराई में तथा दूर तक जाती है. इसलिए गमले में बैंगन का पौधा लगाने के लिए गमले का आकार 10 इंच या इससे बड़ी होनी चाहिए. इसके आलावा आप बड़े साइज़ का तब, बाल्टी, ग्रो बैग भी बैगन लगाने के लिए ले सकते हैं.

बैंगन की प्रजाति का चुनाव(seeds in pot)

यदि आप घर पर गमले में began ka podha लगाकर स्वस्थ ताजे बैंगन की उपज लेना चाहते हैं, तो अच्छे बीज(हाइब्रिड बैंगन का बीज) का होना बहुत आवश्यक है. सही बैंगन के बीज की बात करें तो बैंगन की सब्जी बनाने के लिए लम्बे बैंगन की बीज तथा बैंगन का भरता बनाने के लिए गोल आकार के बैंगन के बीजों का चुनाव कर सकते हैं. बैंगन के एक ही वरायटी के अलग-अलग के किस्मों के बीज आप किसी भी बीज भंडार की दुकान से खरीद सकते हैं.

गमले के लिए मिट्टी और खाद(soil for brinjal)

बैगन के पौधे खेत में लगाया जाय या गमले में या किसी अन्य स्थानों पर फसल की ग्रोथ एवं स्वस्थ तथा अच्छे ऊपज के लिए उपजाऊ mitti का होना बहोत ही आवश्यक है. अगर आप बैगन के बीज या पौधे को गमले में लगाना चाहते हैं, तो इस बात का ध्यान रहे की मिट्टी गीली नहीं होनी चाहिए. यदि मिट्टी गीली हो तो उसे फावड़ा, कुदाल या खुरपी से उलट-पलट कर धूप में सुखा लें, ताकि मिट्टी से नमी निकल जाय जिससे बीजों का अंकुरण जल्दी होगा और बैंगन के पौधे की ग्रोथ भी अच्छी होगी.

गमले में बैगन लगाने के लिए यदि खाद की बात करें तो रासायनिक खाद का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए बल्कि अच्छी सड़ी हुई गोबर की खाद, मुर्गियों की खाद या कंपोस्ट खाद का इस्तेमाल करना चाहिए. गमले के लिए खाद के रूप में इन देशी खाद का इस्तेमाल करने से 100% ऑर्गेनिक बैंगन प्राप्त होते हैं. जो हमारे सेहत के लिए फायदेमंद होता है.

बैंगन की पौध कैसे तैयार करें | how to germinate brinjal seeds

गमले में बैंगन लगाने के लिए या तो गमले में बैंगन(seed in pot) के बीज की सीधी बुआई कर सकते हैं या बैंगन की पौध(baigan ki nursery) तैयार करके पौधे की रोपाई गमले में कर सकते हैं. बैंगन की पौध तैयार करने के लिए आप प्रो ट्रे और कोकोपीट का प्रयोग कर सकते हैं. प्रो ट्रे की सभी खानों में coco peat भर देने के बाद प्रत्येक खानों में 2 बैंगन के बीज की बुआई करने के बाद हजारे की सहायता से हल्की सिंचाई करने के बाद Pro-Tray छाया में रख दें.

और जब 7 से 8 दिन में बीज अंकुरित हो जाएँ तब Pro-Tray धुप में रख देनी चाहिए. और समय-समय पर हल्की सिंचाई करते रहना चाहिए, इस प्रकार 25 से 30 दिन में बैंगन की पौध गमले में लगाने के लिए तैयार हो जाती है.

अच्छी फसल के लिए बैंगन की जलवायु

बैंगन के अच्छे उत्पादन के लिए शुष्क(गर्म) और आद्र जलवायु की आवश्यकता होती है. अधिक तापमान और कम आर्द्रता होने से पौधे से फूल गिरने लगते हैं. जिससे उत्पादन कम हो जाती है. इसलिए बैंगन की अच्छे उत्पादन के लिए 15डिग्री से 35डिग्री सेंटीग्रेट की जलवायु उपयुक्त होती है.

गमले में बैंगन के बीज की बुआई | how to plant brinjal seeds

मिट्टी और कम्पोस्ट खाद को मिक्स करने के बाद इनको गमले में भर दें तथा 3 से 4 प्रति गमले में 3 बीजों की बुआई करें. और बीजों को जमने के बाद हो सकते तो एक गमले में 2 ही बैंगन के पौध रहने दें और बाकि के पौधों को गमले से निकाल दें.

गमले में बैंगन के पौध की रोपाई | how to grow eggplant at home

यदि आप गमले में बैगन की नर्सरी जमाकर पौध की रोपाई करना चाहते हैं तो 1 गमले में 6 इंच की दुरी पर 2 पौधे लगायें. इससे अधिक पौधे लगाने से पौधे कमजोर हो जाते है तथा पेड़ में फल भी कम लगते हैं.

गमले में बैंगन के पौधों की सिंचाई

यदि आप ऑर्गेनिक सब्जियां लेने के लिए घर पर ही गमले में उगने वाली सब्जियां जैसे-baingan ka podha लगाते हैं तो गमले में पौधों की सिंचाई का भी खास ध्यान देना चाहिए, गमले में बैंगन का पौधा(plant of brinjal) लगाने के बाद गमले की मिट्टी सूखने से पहले ही मग, बाल्टी या हजारे की सहायता से हल्की सिंचाई कर देनी चाहिए. लेकिन गर्मियों के मोसम में 1 दिन के अन्तराल पर सिंचाई करनी चाहिए और सर्दियों में 1 सप्ताह पर हल्की पानी दें.

गमले में बैंगन की खेती का समय

गोल बैंगन की खेती करें या हाइब्रिड बैगन की खेती करें या फिर कांटे वाले बैंगन की खेती गमले में बैंगन की सभी मौसमों में की जा सकती है जैसे- जुलाई-अगस्त, जनवरी-फरवरी या अप्रैल-मई के महीनों में बैंगन की रोपाई की की जा सकती है.

गमले में बैंगन के पौधे में लगने वाले रोग

फसलों को रोग और कीड़ों से बचाने के लिए खरपतवार को नियंत्रण करना बहुत जरूरी है.इसलिए गमले में लगे बैंगन के पौधे के आस-पास खरपतवार दिखाई दे, तो समय-समय पर उसको निकाल दें.और साथ ही यदि बैगन में तना छेदक, फली छेदक या अन्य कोई कीट दिखाई दे तो नीम के तेल का 2ml/लीटर पानी में घोल बनाकर छिडकाव करें. बैंगन के पौधे से अधिक उपज लेने के लिए बैंगन के पौधे की देखभाल करनी बहोत आवश्यक है.

गमले में बैंगन कितने दिन में फल देता है

गमले में बीज की बुआई के 90 से 110 दिन में फल तोड़ने के लायक होते है और यदि बैंगन के बीजों की नर्सरी डालकर गमले में बैंगन के पौधे की रोपाई करते हैं, तो इस स्थिति में बैगन में फल 50 से 70 दिन में तोड़ने के लायक होते हैं.

गमले में बैंगन के पौधे की देखभाल | how to take care of brinjal plant

  • गमले में लगे बैंगन के पौधों को आवश्यकता अनुसार समय-समय पर हल्की पानी दें.
  • गमले में उगे खरपतवारों को निकाल देना चाहिए.
  • गमले में बैंगन के पेड़ के चारो और की मीट्टी को खुरपी की सहायता से हल्की गुड़ाई कर देनी चाहिए. ताकि पौधों की जड़ों को हवा मिलती रहे.
  • बैंगन के पौधे से अधिक फल लेने के लिए 20 दिनों के अन्तराल पर पौधे के चारो ओर थोड़ी मात्रा में गोबर की सड़ी खाद या कम्पोस्ट खाद देनी चाहिए.
  • गमले में बैंगन के पेड़ ने निचे की पीली पत्तियों को तोड़कर निकाल देना चाहिए.

गमले में बैंगन के बीज कैसे तैयार करें

यदि आप घर पर ही बैंगन के बीज तैयार करना चाहते हैं तो इसके लिए बैंगन में फली आने के बाद दो तुड़ाई करने के बाड बैंगन के अच्छे फलों को छोड़ दे. लगभग 45 से 50 दिन बाद जब फल पीले हो जायं तब इसे काटकर इसके बीजों को निकालकर धुप में सुखा लें. और कांच की बोतल में भरकर रख दें. फिर आप जब चाहें इन बैगन की नर्सरी तैयार करके पुनः baingan ka paudha लगा सकते हैं.

इस पोस्ट में बस इतना ही, आज हमने जाना की गमले में बैंगन कैसे लगाएं, बैगन की नर्सरी कैसे तैयार करें, बैंगन का पौधा कैसे लगाएं और इससे जुड़ी बहुत सी जानकारी के बारे मिलते हैं किसी और पोस्ट में, तबतक के लिए वंदेमातरम्.

baingan ki kheti | gamle me sabji kaise ugaye | baigan ki kheti at home | brinjal plant at home | bengan ki kheti in Hindi | baingan ka podha kaise lagaye | how to plant seeds in a pot.

FAQ.

Q. बैंगन के बीज कितने दिन में अंकुरित होते हैं(in how many days brinjal seeds germinate)?

A. अच्छी तरह से बैंगन के बीज की बुआई करने के 6 से 10 दिन में अंकुरण होने लगता है. यदि mitti में नमी अच्छी हो तो 6 दिनों में ही सभी बीज अंकुरित हो जाते हैं.

Q. बैगन की फसल में बांझपन का कोई सटीक उपाय और उपचार बताएं?

A. बैगन की फसल को बांझपन से बचने के लिए पौधे को नजदीक न लगायें तथा अच्छे फंगस रसायन का छिडकाव करें. तथा सफ़ेद मक्खी से पौधों को बचाएं.

Q. बैंगन के बीज की कीमत?

A. 10 ग्राम बैंगन के बीज की कीमत 90 रूपये से लेकर 120 रूपये तक होती है.

Q. बैंगन के पौधे में आयरन की कमी के क्या कारण है?

A. बैंगन के पौधे में आयरन की कमी से पौधे का विकास रूक जाता है और उपज में भी कमी देखने को मिलती है.

Q. बैंगन की जाति क्या है?

A. बैंगन सोलेनैसी जाति की फसल है.

यह भी पढ़ें:

धनिया कैसे उगाये गमले में

हाइब्रिड सरसों की खेती

ड्रिप सिंचाई किस क्षेत्र के लिए उपयोगी है

भूमि की उर्वरता बढ़ाने के लिए कौन सी फसल उगाई जाती है

Previous articleइन कृषि यंत्रों पर मिलेंगे 50 प्रतिशत अनुदान जल्दी करें आवेदन
Next articleटपक सिंचाई पद्धति क्या है | ड्रिप सिंचाई in hindi : dripper

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here