FMC के इस दवा के स्प्रे से टमाटर, भिंडी और बैंगन में इल्लियों से मिलेगा छुटकारा

FMC के इस दवा के स्प्रे से टमाटर, भिंडी और बैंगन में इल्लियों से मिलेगा छुटकारा

एफएमसी इंडिया ने देश के किसानो के फसलों में लगने वाले पत्ती खाने वाले कीड़े तथा फल खाने वाले कीड़ों से फसल की बचाव के लिए FMC कोरप्राइमा™ कीटनाशक दवा लॉन्च किया है.

सब्जियों के साथ बहोत से किसान चने तथा रहर की फसलों में भी फ्रूट बोरर्स कीट(इल्ली) काफी परेशान रहते हैं. जो फलियों को खाकर फसल की उपज पर नकारात्मक प्रभाव डालते हैं. लेकिन अब किसान भाइयों की खेतों में लगे टमाटर, भिंडी और बैंगन इत्यादि फसलों की सुरक्षा के लिए एफएमसी कोरप्राइमा™ कीटनाशक काफी लाभदायक होगा.

FMC कोरप्राइमा™ कीटनाशक के लाभ

रायपुर, रायगढ़, जशपुर नगर, जगदलपुर, अंबिकापुर जैसे अनेक राज्यों में बैंगन, टमाटर और भिंडी की खेती करने वाले किसानों को फ्रूट बोरर्स के प्रकोप से फसल उत्पादन में 50 से 60 प्रतिशत की कमी होती थी. इस कीट के संक्रमण से फलों को नुकसान तो होता ही था, साथ ही फूल भी झड़ जाते थे.

जिन फसलों में इन कीटों का संक्रमण होता था फल, फूल, फल की गुणवत्ता तथा उपज पर नकारात्मक प्रभाव देखने को मिलता था. किसान भाइयों की इन सभी समस्याओं को दूर करने के लिए एफएमसी कोरप्राइमा टीएम कीटनाशक फसलों को बगैर नुकसान पहुंचाए सुरक्षा करेगी.

एफएमसी कोरप्राइमा टीएम का अनावरण

कोरप्राइमा टीएम कीटनाशक का प्रकाशन रायपुर में एफएमसी इंडिया के अध्यक्ष रवि अन्नावरापू और इस कंपनी के खुदरा व्यापारी तथा वहाँ के स्थानीय भागीदारों की उपस्थिति में किया गया. इस अनावरण में बताया गया की टमाटर और भिंडी में फ्रूट बोरर कीटों के कहर से किसानो को काफी काफी नुकसान होता है. अनावरण प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद उपस्थित आगंतुकों के लिये सांस्कृशतिक प्रस्तुसतियों और ज्ञानवर्द्धक सत्र का भी आयोजन किया गया.

फ्रूट बोरर से होने वाले नुकसान को कोरप्राइमा टीएम कीटनाशक के छिड़काव से बचाया जा सकता है. यह कीटनाशक फसलों में लगने वाले कीटों से ज्यादा समय तक नियंत्रण करके खेती की रक्षा करता है. इस दवा का असर ज्यादा लंबे समय तक रहने के कारण किसान भाइयों की मेहनत, समय और खर्च तीनो की बचत होगी.

कोरप्राइम टीएम की पैकेजिंग

देश में छोटे,सीमांत और बड़े किसान तीनो तरह के किसान खेतीबाड़ी करते हैं. ऐसे में छोटे किसानो को कम और बड़े किसानों को अधिक दवा की जरुरत पड़ती है. अतः इन किसान भाइयों को जरुरत से अधिक दवा न खरीदनी पड़े, इसके लिए कंपनी ने किसान की समस्या को देखते हुए कोरप्राइमा टीएम की अलग-अलग पैकेजिंग की है. जो 6 ग्राम, 17 ग्राम तथा 34 ग्राम के पैकेट में दुकानों पर मिलेंगी.

लंबे समय तक कोरप्राइम टीएम का होगा असर

फसलो फल एक बार अभिनव कीटनाशक कोरप्राइमा™ का छिडकाव करने के बाद अन्य रसायन दवाओं की तुलना में इसका असर अधिक समय तक कीटों से लड़ने में मदद करेगा. इसके छिड़काव से फसलों में लगे फूलों पर इसका कोई साइडइफेक्ट नहीं होगा. बल्कि ये फूलों को भी फसलों से गिरने से रोकेगी. जिससे बंपर उत्पादन प्राप्त होगा.

FAQ:

Q: FMC कोरप्राइमा क्या है?

ANS: एफएमसी कोरप्राइमा टीएम एक कीटनाशक है इसका टमाटर, भिन्डी, बैंगन इत्यादि फसलों पर फ्रूट बोरर्स कीट से फसल को बचाने के लिए स्प्रे किया जाता है.

Q: एफएमसी कोरप्राइमा अरहर में डालने के क्या फायदे है?

ANS: FMC कोरप्राइमा के छिड़काव से अरहर में लगे फ्रूट बोरर्स कीट नस्ट हो जायेंगे. जिससे उपज अधिक होगी.

Q: एफएमसी कोरप्राइमा टीएम का अनावरण भारत में कहाँ हुआ?

ANS: रायपुर में.

Q: FMC कोरप्राइमा कितने ग्राम की पैकेट में मिलती है?

ANS: FMC कोरप्राइमा 6 ग्राम, 17 ग्राम तथा 34 ग्राम के पैकेट में उपलब्ध है.

यह भी पढ़ें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here