Fish farming in up | Chital fish farming in Hindi | चीतल मछली पालन कैसे करें

chital machli अमेरिका और बांग्लादेश में पाई जानी वाली पौष्टिक तत्वों से भरपूर दुर्लभ प्रजाति की मछली है. यदि आप चीतल मछली पालन करना चाहते हैं तो आज के इस पोस्ट में हम आपको chital fish farming के बारे में बिस्तार से जानकारी देने जा रहे हैं।

cheetal machhali तालाब में निचे जमीन की तली पर रहती है यह मीठे जल की मछली है इसलिए इसे मीठे पानी की मछली के रूप में भी जाना जाता है। इस मछली को चिटोल मछली, चीतल मछली, चित्तल मछली आदि नाम से भी जाना जाता है।

Chital fish farming in Hindi
chital fish photo, chital fish in hindi, fish farming in up in hindi.

यह मांसाहारी मछली है यह ज्यादातर छोटी मछलियों जैसे – घोंघे, झींगे और छोटे-छोटे जलीय कीटों का अपना भोजन बनाती है ।

चीतल मछली का वर्गीकरण(classification of chital fish)

1 वैज्ञानिक नाम चीतल चीतल
2 फ़ैमिली नोटोपाइडी
3 कक्षा एक्टिनोप्ट्रीजी
4 किंगडम एनिमिया
5 फीलुम कॉर्डेटा
6 आदेश ओस्टोग्लोसिफोर्मेस
7 जीनस चीतल
8 प्रजातियाँ सी. चीतल

चीतल मत्स्य बीज(chital fish seed)

  • यह एक जंगली मछली है जिसके कारण भारत में चीतल मत्स्य बीज हैचरी अभी कहीं भी नहीं है और बाजार में भी इसकी मांग भी बढ़ती जा रही है ।
  • cheetal fish के बीज को नदियों द्वारा इकठ्ठा किया जाता है और बाजार में बेचा जाता है लेकिन इसके हैचरी की बात करें तो अभी तक संभव नहीं हुआ है ।
  • यदि आप चीतल मछली पालन करना चाहते हैं तो आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए की चीतल मछली के बच्चे 3 inch से छोटे नहीं होने चाहिए ।
  • आप अपने तालाब में यदि ३ इंच से छोटे बच्चे पालते हैं तो सभी बच्चे मर सकते हैं इसका कारण यह है की मछलियों के बच्चों को अंडे से निकलने के बाद लगभग १ महीने तक उनको उनकी माता के साथ रहना होता है।
  • इसके बाद ही उनको अकेले किसी भी तालाब में ले जाया जा सकता है।

चीतल मत्स्य बीज के दाम(chital fish seed price)

यदि हम भारत की बात करें तो चीतल मछली की ब्रीडिंग नहीं होने के कारण इसके बीज थोड़े महंगे मिलते हैं लेकिन यदि चीतल के ३ इंच साइज़ वाले मत्स्य बीज की बात करें तो यह भारतीय बाजार में लगभग 10 रुपये से लेकर 22 रुपये तक प्रति एक बच्चे मिलते हैं।

चीतल मछली पालन कैसे करें(chital fish farming in india)

1.तालाब की तैयारी- चीतल पालन के लिए अप्रैल के महीनों में तालाब की तैयारी शुरू कर देनी चाहिए इसके लिए 1 एकड़ से बड़ी तालाब होनी चाहिए। तालाब की अच्छी तरह खुदाई होने के बाद 20 दिनों तालाब को इस तरह सुखा लेने चाहिए की निचे की जमीन पर दरार बन जाये इसके बाद उसमे पशुओं के गोबर या मुर्गियों के खाद 400 किलो और 50 किलो चुना डाल देनी चाहिये, इसके बाद तालाब की गहरी जुताई करके उसमें पानी भर देना चाहिए।

2.तालाब में पानी की मात्रा- चूँकि चीतल मछली तालाब में एकदम निचे जमीन की सतह पर रहती है इसलिए तालाब में पानी 3 फिट से कम और 4 फिट से ज्यादा नहीं होना चाहिए।chital machli का आकर बहुत बड़ा होता है इसलिए 1 एकड़ तालाब में 1500 से 2500 मछलियों को छोड़ना चाहिए।

3.चीतल मछली के लिए पानी की गुणवत्ता- इस मछली के पालन के लिए अमोनिया बढ़ने या घटने तथा PH ऊपर-निचे होने से कोई ज्यादा फर्क नहीं पड़ता है लेकिन जहाँ तक संभव हो तो डिजोल्व – ओक्सिजन 5PPM, अमोनिया – 0PPM और PH – 7.5 से 8.6 के बीच रहना चाहिए।

4.चीतल मछली का खाना- हमने आपको बताया है की यह मांसाहारी मछली है और यह छोटी मछलियों तथा घोंघे, झींगे और छोटे-छोटे जलीय कीटों को अपना भोजन बनाती है. इसलिए तालाब में चीतल मछली बीज संचय के लगभग 2 महीने पहले 1 एकड़ तालाब में 3 से 5 हजार तिलपिया मछली का संचय करना चाहिए,

यदि आप तालाब में 4 हजार तिलपिया मछली का संचय करते हैं तो आपको 3000 नर और 1000 मादा मछली का संचय करनी चाहिए, तिलपिया मछली इसलिए डालना चाहिए ताकि चीतल मछली इनको अपना भोजन बना सके, तिलपिया मछली का संचय करने के 40 दिन बाद चीतल मछली तालाब में डालना सकते हैं. तिलापिया मछली का चारा के उपयोग में chital mach को दिया जाता है

chital fish price per kg in india | चीतल मछली में प्राफिट

चीतल मछली अन्य मछलियों की तुलना में बहुत ही ऊँचे दाम पर बाजार में बिकते हैं, बाजार में इसकी कीमत 250 रुपये किलो से लेकर 400 रुपये किलो तक रहती है विभिन्न देशों में इसके दाम और भी महंगे होते हैं।

यदि इस मछली की अच्छी से देखरेख की जाय तो एक साल में यह लगभग 2 से 2.5 किलो की हो जाती है इस तरह यदि आप एक एकड़ तालाब से 1000 से 2000 किलो उत्पादन लेते हैं,

तो आप 200 रुपये किलो के हिसाब से 2 लाख से 4 लाख तक उत्पादन ले सकते हैं लेकिन चीतल मछली पालन में प्राफिट आपके बाजार के दामों पर निर्भर करती है।

FAQ

Q. चीतल मछली में प्रजनन अवधि क्या है?

A. इनकी प्रजनन अवधि जून से जुलाई महीने में होता है। प्रजनन काल के दौरान ये मिट्टी के अन्दर छेद बनाकर रहते हैं। लेकिन ये जलीय पौधों पर भी अंडे देते हैं.

Q. चीतल मछली को कैसा भोजन चाहिए?

A. ये मांसाहारी होती हैं। वे अन्य जल स्तर से चारा खाते हैं तथा विभिन्न प्रकार की छोटी मछलियाँ, झींगा, घोंघा और जलीय कीट को पसंदीदा भोजन बनाते हैं।

Q. चीतल मछली की लंबाई और आकार कैसा होता है ?

A. इस चिटोल मछली की लंबाई लगभग 100-120 सेमी होती है तथा सिर का पिछला हिस्सा धनुष की तरह घुमावदार होता है और थोड़ा सीधा होता है। सिर और शरीर स्केट और दानेदार होता है।

Q. 1 चीतल मछली के साथ कितनी तिलापिया मछली डालनी चाहिए?

A. चीतल मछली पालन में इनके पर्याप्त भोजन के लिए इस बात का ध्यान दें की चीतल के 1 बच्चे के साथ सात तिलपिया मछली के बच्चे डालें.

Q. चीतल मछली पालन में कौन सी बामारी लगाती है?

A. चीतल पालन में किसी भी तरह का कोई रोग नहीं लगता है है यदि कोई रोग लगता भी है तो अपने आप ठीक हो जाता है.

Q. मछली पालन के लिए तालाब की गहराई कितनी होनी चाहिए ?

A. chitol fish पालन के लिए तालाब की गहराई कम से कम 6 फुट होनी चाहिए. जिसमें 3 फिट से कम और 4 फिट से ज्यादा पानी नहीं भरना चाहिए।

इनको भी पढ़ें-

सबसे ज्यादा अंडे देने वाली मुर्गी की नस्ल

समृद्ध शहद उद्योग

sabji bechne ka business

Previous articleGamale ki mittee ko upajaoo kaise banaen | गमले की मिट्टी को उपजाऊ कैसे बनाएं
Next articleHow to plant lady’s finger in pot | गमले में भिंडी का पौधा कैसे लगाएं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here