Home कृषि आईडिया नए तरीके से धनिया बोने की विधि | dhaniya bone ki vidhi

नए तरीके से धनिया बोने की विधि | dhaniya bone ki vidhi

नमस्ते दोस्तों आज हम आपको नए तरीके से dhaniya bone ki vidhi के बारे में बताने जा रहे हैं. अगर आप भी धनियाँ बोने की इस नई विधि के बारे में जानना चाहते हैं तो इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें. तो मित्रों चलिए हम जान लेते हैं की नये तरीके से धनिया कैसे लगाएं.

धनिया बोने की छिटकवा विधि

आमतौर पर देखा जाता है की अक्सर गाँव के किसान सर्दियों में बीज उत्पादन के लिए धनिया की बुआई छिटकवा बिधि से करते हैं. इस विधि से धनिया की बुआई तो बहुत जल्दी हो जाती है. लेकिन ज्यादातर बीज मिट्टी में दब जाते और जमाव बहुत कम होता है. और इससे धनिया के उपज पर बहुत प्रभाव पड़ता है.

मेड़ बनाकर उँगलियों से धनिया बोने की विधि

और बहुत से लोग विधिवत खेत को तैयार कर लेते हैं उसके बाद पुरे खेत में एक साथ मेड़ बनाकर फिर धनिया के बीज को चुटकियों से मिट्टी में गोदते हैं. इस विधि से धनियाँ की बुआई करने में काफी समय लगता है और मजदूर भी अधिक लगते हैं. यानि इस विधि धनिया की बुआई करने से श्रम और मेहनत दोनों अधिक लगते हैं. परन्तु बीजों का जमाव एक साथ और बहुत अच्छा होता है.

धनिया बोने की नई विधि

धनिया बोने की यह विधि ऊपर बताये गए दोनों तरीकों के बीच की कड़ी है. इस विधि से धनिया की बुआई मेड़ पर और छिटकवा दोनों तरीके से की जाती है लेकिन इस तरीके से धनिया की बुआई करने से सभी बीजों का जमाव तो अच्छा होता ही है साथ ही श्रम और मेहनत दोनों बचते हैं.

इस विधि से धनिया की बुआई करने के लिए सबसे पहले खेत की अच्छी तरह से तैयारी करने के बाद फावड़ा से पुरे खेत में मेड़ बना लेनी चाहिए, उसके बाद मेड़ के उपरी भाग को 2 इंच मिट्टी को हाथ की सहायता से निचे गिराकर मेड़ को समतल कर लेना चाहिए. इतना करने के बाद धनिये के बीज को समतल मेड़ पर गिरा देना चाहिए.

धनिये के बीज को पुरे मेड़ पर छिटकाव करने के बाद गिरी हुई मिट्टी से बीज को ढक देना चाहिए. धनिया बोने की यह विधि बहुत ही अच्छी मानी जाती है. इस तरीके से धनिया की बुआई करने से जमाव बहुत जल्दी होता है. इस बात का ध्यान रहे की अच्छी ऊपज लेने के लिए हमेशा हाइब्रिड धनिया का बीज ही बोना चाहिए.

धनिया में खरपतवार नाशक दवा

धनिया की खेती में खरपतवार नियंत्रण के लिए बहुत अधिक श्रम और मेहनत की जरुरत नहीं होती है. क्योंकि धनिया की बुआई के लगभग 50 दिन बाद मंडियों में बेचने के लायक तैयार हो जाते हैं. धनिया में खरपतवार नाशक दवा का छिड़काव बुआई के तुरंत बाद किया जाता है.

बीजों की बुआई के तुरंत बाद पेंडीमेथिलिन 100ml दवा को 15 लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव करने से खरपतवार ऊपर नहीं निकलने पाते हैं. जब खरपतवारों को निकलने का समय आता है तब-तक हरी धनिये की कटाई करने का समय आ जाता है.

यह भी पढ़ें

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version