रबी फसलों को झुलसा रोग और पाले से कैसे बचाएं किसान – जानें रासायनिक दवा और घरेलु उपाय-2023

रबी फसलों को झुलसा रोग और पाले से कैसे बचाएं किसान - जानें रासायनिक दवा और घरेलु उपाय

रबी सीजन में गेहूं, चना, मटर, टमाटर, सरसों, जौ, मसूर जैसे अनेक प्रकार की फसलें उगाई जाती हैं. इनमें से कुछ फसलें पाले को सहन कर लेती हैं और कुछ फसलें अत्यधिक ठण्ड और पाले की चपेट में आकर चौपट हो जाती हैं. ऐसे किन किसान भाइयों को रबी फसलों को झुलसा रोग और पाले से बचाने के लिए फसलों की निगरानी करते रहना चाहिए. और जैसे ही फसलों पर पाले का असर दिखाई दे, तुरंत रासायनिक दवा का स्प्रे करें.

नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपको रबी सीजन में उगाई जाने वाली फसलों को झुलसा रोग और पाले से बचाने के रासायनिक दवा और घरेलु उपाय दोनों उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं. हम उम्मीद करते हैं की आपको यह जानकारी अच्छी लगेगी. अगर आपको यह आर्टिकल अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें.

फसल को झुलसा रोग और पाले से बचाने के लिए घरेलु उपाय

रबी सीजन में सब्जी वाली फसल जैसे- आलू, टमाटर, मिर्च, बैंगन जैसी फसलों में कोहरा और पाले के कारण झुलसा रोग का आगमन बहुत तेजी से होता है. यदि समय रहते इन फसलों की देखरेख करके इनका प्रबंधन न किया जाय तो एक ही रात में पूरी फसल झुलसा रोग से ग्रसित होकर नष्ट हो जाएगी. तो चलिए हम जानते हैं की फसल को झुलसा रोग और पाले से बचाने के लिए घरेलु उपाय क्या-क्या हैं.

खेतों में धुआँ करना

जब दिन के समय तापमान बहुत कम हो जाय या कोहरा पड़ने लगे तब सब्जी वाली फसलों में झुलसा रोग का प्रकोप बहुत तेजी से बढ़ता है. ऐसी परिस्थिति में किसान भाइयों को चाहिए की जिस दिशा से हवा चल रही हो उस दिशा में खेत की मेड़ पर 2 से 3 जगह दिन में और शाम के समय तथा संभव हो तो रात के समय भी आग जलाकर धुआँ करनी चाहिए. खेतों में धुआँ करने से फसलों में कोहरे और पाले का असर नहीं होता है. इस घरेलु विधि से फसलों को कोहरे और पाले से बचाया जा सकता है.

फसलों में पानी भरना

सर्दियों में कोहरा और पाला पड़ने की स्थिति में फसलों को झुलसा रोग से बचाने के लिए फसल के चारो ओर तथा कहीं-कहीं बीच में नालियाँ बनाकर पानी भरना चाहिए. इस विधि से भी फसल पर कोहरा और पाला का प्रभाव कम होता है.

फसल को झुलसा रोग और पाले से बचाने के लिए रसायनिक दवा

किसान भाइयों को अपने खेतों में लगे फसलों को झुलसा रोग से बचने के लिए घरेलु उपाय पर ही निर्भर नहीं रहना चाहिए, इसके साथ रसायनिक दवाओं का भी छिड़काव करना चाहिए. ऐसे में अगर कोहरा और पाला पड़ने की सम्भावना हो तो मेरिवान रासायनिक फफुन्दनाशक की 10ml दवा प्रति 15 लीटर पानी मे घोल बनाकर 1 सप्ताह के अन्तराल पर फसलों पर छिड़काव करना चाहिए.

इसके अलावा किसान भाइयों को कोहरे और पाले से फसलों को बचाने के लिए अनेक प्रकार की रासायनिक दवाइयाँ मिल जाएगी, परन्तु मेरिवान रासायनिक फफुन्दनाशक बहुत ही अच्छी दवा है. मेरीवान की प्राइस की बात करें तो इसकी फुटकर 10ml दवा 120 रुपये से लेकर 130 रुपये में मिल जाती है.

इसके अलावा किसान अपनी फसलों को झुलसा और पाले से बचाने के लिए लूना, मिराडोर, कस्टोडीया जैसे अनेक रासायनिक फफुन्दनाशक दवाइयों का छिड़काव कर सकते हैं.

इसे भी पढ़ें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here