ड्रिप सिंचाई में फिल्टर क्यों लगाए | drip irrigation filter

ड्रिप सिंचाई में फिल्टर: फसलों से अच्छी पैदावार लेने के लिए सिंचाई बहुत जरुरी है. यदि फसलों को अधिक पानी दे दिया जाय तो पौधों की जड़ें सड़ने लगती हैं, पहले लोग आधुनिक तकनीक से सिंचाई करते थे. जिसमें किसी भी फसल की सिंचाई केने के लिए की नालियों या पाईप का सहारा लेते थे और और एक तरफ से पुरे खेत की सिंचाई कर दे ते थे जिससे खरपतवार अधिक उग आते थे.

परन्तु अब किसान ड्रिप सिंचाई (tapak sinchai) से फसलों की सिंचाई करने की और अग्रसर हो रहे है, आज के समय भारत के लगभग सभी राज्यों में फसलों की अच्छी सिंचाई के लिए ड्रिप इरिगेशन प्रणाली का उपयोग कर रहे हैं. इस विधि से पेड़-पोधे या फसलों को एकसमान न तो ज्यादा न तो कम धीमा गति से बूँद-बूँद के रूप में जड़ के पास पानी दिया जाता है.

ड्रिप सिंचाई में फिल्टर का महत्व

बहुत से किसान भाई ड्रिप इरिगेशन लगा चुके हैं और सिंचाई भी इसी से करते हैं किन्तु काफी लोगों की यह समस्या होती है की ड्रिप सिस्टम जल्दी से खराब हो जाता है. आपको बता दें की ड्रिप खराब होने का प्रमुख कारण फ़िल्टर होता है. तो दोस्तों हम आपको बताने जा रहे हैं की drip irrigation filter क्यों लगाने चाहिए,और आपको यह भी बतायेंगे की tapak paddhati में फिल्टर कौन से फिल्टर लगाने चाहिए.

ड्रिप सिंचाई में फिल्टर का महत्व(drip irrigation water filter)

जिस प्रकार पानी के बगैर जीवन बेकार है, उसी तरह फ़िल्टर के बिना ड्रिप सिंचाई प्रणाली बेकार है. ड्रिप सिस्टम को सालों-साल चलाने के लिए फिल्टर का बहोत बड़ा योगदान रहता है. आपको कई तरह के फिल्टर बाजार में मिल जायेंगे, परन्तु ड्रिप को लम्बे समय तक बरकार रखने के लिए एक क्वालिटी अच्छे फिल्टर लगाने की जरुरत होगी. एक ड्रिप की लम्बी आयु उसमे लगने वाले फ़िल्टर पर निर्भर करती है.

यह भी पढ़िए- टपक सिंचाई पद्धति क्या है

बहुत से किसान सिंचाई करने के लिए नहरों, तालाबों जैसी जगह से पानी का उपयोग करते है. जिसमे काई, शैवाल, कीचड़, रेत जैसी बहुत से कचरे हमारे ड्रिप को जाम कर देते है. और ड्रिप खराब हो जाती है ऐसे में किसान भाइयों को नया drip खरीदना पड़ता है. इसलिए आप जब भी फिल्टर खरीदने जाएँ अच्छी गुणवत्ता वाले फिल्टर ही ख़रीदे ताकि फ़िल्टर और ड्रिप के अतिरिक्त खर्चे से बच सकें.

filter drip irrigation के प्रकार | drip irrigation filter types price

फिल्टर का नामफिल्टर की ₹कीमत
सॅन्ड फिल्टर15,500 – 25,500 तक
शंकु फ़िल्टर4,500 – 5,700 तक
ऑटोमॅटिक डिस्क फिल्टर4,500 – 6,100 तक
disc filter for drip irrigation3,300 – 4,700 तक
ऑटोमॅटिक स्क्रीन फिल्टर(screen filter for drip irrigation)3,200 – ₹3,600 तक
सुपर क्लीन फिल्टर1,400 – 2,000 तक

FAQS.पूछे जाने वाले प्रश्न-

Q. बिना ड्रिप सिंचाई मल्चिंग पेपर से खेती संभव है?

A. हाँ.

Q. ड्रिप सिंचाई हेतु आवेदन कैसे करें कहां करें?

A. ड्रिप सिंचाई पर सब्सिडी लेने के लिए अपने प्रदेश की कृषि विभाग की वेबसाइट पर जाकर आवेदन से सम्बंधित सभी जानकारी प्राप्त सकते है.

यह भी पढ़िए- नीलगाय भगाने की मशीन

Previous articleमछली पालन कैसे शुरू करें | fish palan kaise kare in hindi
Next articleबैंगन के पौधे को बंझा होने से कैसे रोके | Little leaf of brinjal in hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here