सुअर भगाने की दवा

खेतीबाड़ी करना किसान भाइयों के लिए सरदर्द बन चूका है. और इसका मुख्य कारण हैं जंगली जानवर, नीलगाय तो किसानों के लिए आफत की पुड़िया थी ही. लेकिन अब जंगली सुअर भी किसानों के लिए आफत बनी हुई है. हालांकि का प्रकोप सभी जगह नहीं है लेकीन जहाँ भी हैं, इनके आतंक से उस क्षेत्र के किसान काफी परेशान हैं.

सुअर भगाने की दवा

नीलगाय क्या कम आतंक कर रहे थे की जंगली सुअर भी गाँव की तरफ चले आ रहे हैं किसानों के लिए सिरदर्द बने हुए है. नीलगाय तो केवल खड़ी फसलों को ही नुकसान पहुंचाते थे लेकिन ये सूअर अब जमीन के निचे उगने वाली फसलों को अपना आहार बनाकर किसान की मेहनत को पानी में बहा रही है.

जंगली सुअर क्या खाता है

जानवर वाला जंगली सुअर यह एक ऐसा बदसूरत जानवर है. दुनिया की सबसे गन्दी से गन्दी चीजों को खाकर अपना पेट भरती है लेकिन अगर बात करें की जंगली सुअर से किसानों को क्या हानि होती है तो यह किसान के खेत से कन्द-मूल जैसे- जमीन के निचे उगने वाली सब्जियां मुली, मूंगफली, गाजर, चुकन्दर, आलू इत्यादि. और खड़ी फसलों को भी खाकर नुकसान पहुंचाती है. जबकि नीलगाय केवल खड़ी फसलों को ही खाती है परन्तु ऐसे में यदि जंगली सुअर और नीलगाय दोनों ही किसान के खेत में चले जायेंगे तो कोई भी फसल लेना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन हो जाएगा.

जंगली सूअर कैसे होते हैं

गाँव और देहात में जो सूअर पाले जाते हैं वह सफ़ेद रंग के होते हैं लेकिन जो जंगली सूअर होता है. यह मध्यम काले और स्लेटी रंग लिए काफी डरावना दिखता है. जिस प्रकार हांथी के सुण के पास 2 दांत होते हैं ठीक उसी प्रकार इसके भी बाहरी दो दांत होते हैं लेकिन कुछ लोग इसे सिंग भी कहते हैं. यह जंगली सुअर अगर अकेले किसी ब्यक्ति को देखता है तो डरने की बजाय यह हमला करने की कोशिश करता है.

जंगली सुअर भगाने के देशी उपाय

यहाँ हम आपको जो जंगली सुअर भगाने के उपाय बताने जा रहे हैं यह खेत से जंगली जानवर भगाने का देसी जुगाड़ काफी हद तक कारगर साबित होता है. इसके लिए नीलगाय, जंगली सूअर या गाँव में पाले जा रहे पालतू सुअरों के गोबर का पानी में घोलकर बनाकर नीम की टहनियों या झाड़ू से खेत के चारो और छिड़काव करे साथ ही फसलों के पत्तियों पर भी छिदकाब करना चाहिए. ऐसा करने से उनको यह लगता है की हमारे अलावा यहाँ और कोई खतरनाक जंगली पशु रहते होंगे. जिससे वे उस खेत में नहीं जाते हैं.

खेत से जंगली सूअर भगाने का एक उपाय यह भी हैं की खेत के चारो और घर में पड़ी पुराने रंगीन साड़ियों को घेर दें. इससे कोई भी जंगली जानवर दूर से ही इन साड़ियों की घेराबंदी को देखकर दूसरी और चले जाते हैं. उनको ऐसा लगता है की खेत में किसान कोई काम कर रहे हैं. गाँव के छोटे किसान जंगली जानवरों से बचने के लिए यही तरीका अपनाते हैं. लेकिन यह साड़ियों के घेराबंदी वाली पध्यती छोटे किसान के लिए है क्योंकि अधिक खेत के लिए अधिक साड़ियाँ मिलना मुश्किल हो जायेगा.

जंगली सुअर भगाने की दवा

खेत से जंगली सूअर को भगाने के लिए अत्यधिक मदबू देने वाले रसायन फोरेट का उपयोग करना चाहिए. इस रसायन को खेत के चारो और बुरकाव कर दें. यह बहुत ही बदबू देता है. तथा इसके साथ ही जैविक खाद का प्रयोग भी सुअर भगाने के लिए खेत में दिया जा सकता है. लेकिन यह विधि लम्बे समय के लिए नहीं हैं यदि जंगली जानवरों से हमेशा के लिए छुटकारा पाना है तो सुअर भगाने की मशीन लगानी होगी.

जंगली सुअर भगाने की मशीन

सुअर भगाने की दवा

जंगली पशुओं से फसलों को बचाने के लिए किसान को अपनी kheti ke liye jhatka machine लगाने की आवश्यकता है. जो केवल करेंट देती है. इससे पशुओं, मनुष्यों को किसी भी प्रकार का कोई खतरा नहीं होता है. इस करंट वाली मशीन की कीमत मात्र 5000 रूपये है. इस मशीन के बारे में अधिक जानकारी के लिए हमारी janwar wali jhatka machine वाली पोस्ट को पढ़ें.

FAQS:

Q: जंगली सूअर क्या क्या खाता है?

ANS: जंगली सूअर जमीन के निचे उगाने वाली फसलों जैसे कन्द-मूल के साथ कीड़े-मकोड़े कचरे इत्यादि खाते हैं.

Q: सुअर भगाने की मशीन का क्या नाम है?

ANS: करंट वाली झटका मशीन.

Q:जंगली सूअर का वजन कितना होता है?

ANS: 60 से 100 K.G.

यह भी पढ़ें:

बुवाई में उपयोग होने वाले आधुनिक यंत्र

जंगली जानवर भगाने की दवा

कीटनाशकों का छिड़काव कैसे करें

Previous articleगेंदे के फूल की माला | gende ke phool ki mala
Next articleजैविक खाद कितने प्रकार के होते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here