गेंदे के फूल की माला कैसे बनाएं | phool ki mala kaise banate hain

गेंदे के फूल की माला कैसे बनाएं | phool ki mala kaise banate hain

आज कल सभी शुभ कार्य जैसे पूजा-पाठ, शादी-विवाह, बर्थ-डे, गोद भराई और त्योहारों इत्यादि कार्यों को और आधिक शानदार तथा खुबसूरत बनाने के लिए गेंदे के फूल की माला यानि गेंदे की गजरा का डिमांड बहुत बढ़ गया है. ऐसे में अगर किसान गेंदा की खेती करते हैं तो इसकी खेती से बहुत अच्छा मुनाफा कम सकते हैं.

नमस्कार किसान भाइयों आज के इस पोस्ट में हम आपको गेंदा फूल की माला कैसे बनाते हैं तथा Gende ki mala बनाने के लिए किन-किन चीजों की आवश्यकता होती है इन सबके बारे में विस्तार से जानकारी देने जा रहे हैं. हम उम्मीद करते हैं की आपको यह आर्टिकल अच्छी लगेगी . और यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें.

गर्मियों में Gende ke phool की तुड़ाई

गर्मियों के मौसम में धुप जल्दी ही निकाल आते है. और इन दिनों धुप काफी तेज भी होती है, और अधिक घाम होने से genda ke phool नरम हो जाते हैं और इससे बनने वाली Gende ke phool ki mala की क्वालिटी बेहद खराब हो जाती है. इसलिए गर्मियों में गेंदे के फूलों की तुड़ाई एकदम सुबह जब खेत में ओस हो तब या सूर्यास्त के बाद शाम के समय करना चाहिए.

सर्दियों में गेंदे के फूलों की तुड़ाई

इन दिनों ओस बहुत अधिक पड़ते हैं. और कभी कभी तो धुप ही नहीं होती है कभी-कभी तो सारा दिन कोहरा छाया रहता है. और खिले हुए फूलों में ज्यादा नमी भी उनकी क्वालिटी पर प्रभाव डालता है. अधिक ओस होने से फूलों में काले दाग बन जाते हैं जिससे मंडियों में इनकी कीमत आधी हो जाती है. अतः जाड़े के मौसम में Gande ki mala बनाने के लिए फूलों की तुड़ाई धुप होने के बाद जब फूलों पर ओस न हों तब गेंदा के फूल की तुड़ाई करें.

बारिश में हजारे गेंदे के फूलों की तुड़ाई

बरसात के मौसम में गेंदा के फूलों की तुड़ाई मंडी जाने से एक दिन पहले ही कर लेनी चाहिए. क्योंकि बारिश में मौसम कब बिगड़ जाए कोई भरोसा नहीं होता है. यदि साफ दिखाई दे और लगे की कुछ दिन बारिश नहीं होगी तब सुबह या शाम को फूलों की तुड़ाई करें. लेकिन यदि किसा करना फूलों की तुडाई करने से पहले ही बरसात हो जाए तब बारिश बंद होने के बाद गेंदा के फूल की तुड़ाई करें. और भींगे हुए फूल को जूट की बोरियों पर फैलाकर फंखा चला दे जिससे फूलों से सारा पानी सुख जाये. इसके बाद गेंदे के फूलों की माला बनाना चाहिए.

गेंदे के फूल की माला बनाने के लिए धागे की लम्बाई

गेंदे के फूलों की माला बनाने के लिए धागे की एक उचित लम्बाई होनी बहुत आवश्यक है. गेंदा फूल के माला 2 तरह के बनाये जाते हैं.

  • छोटी माला: इसे मंदिरों में पूजा पाठ के लिए लोग खरीदते हैं. जिसकी लम्बाई 30 इंच की होती है और इस धागे में फूलों की गथाई करके जब इसे बांधते है तो यह गजरा/माला बन जाती है और इसकी लम्बाई 15 इंच की हो जाती है.
  • बड़ी माला: इसे मंदिरों में पूजा पाठ के साथ घर सजाने, स्टेज सजाने, मंच सजाने और भी शुभ कार्यों की लिए उपयोग में लाये जाते हैं. इस बड़े गेंदे के फूल की माला की लंबाई 56 इंच होती है. इस 56 इंच धागे की लंबाई मे गेंदा की फूलों की साइज के हीसाब से 65 से 75 गेंदा के फूल लगते हैं. और जब इस धागे में फूलों की गुहाई करके इसे बांधते हैं तो इस गजरे की लम्बाई 28 इंच की होती है.

माला बनाने के लिए धागे की कटिंग कैसे करें

गेंदे के फूल की माला कैसे बनाएं | phool ki mala kaise banate hain

Gende ke phoolon ki mala बनाने के लिए सबसे पहले 1 फिट की सुई जो 5 रुपये की आती है. और धागे की जरूर पड़ेगी जो 100 रुपये किलो आती है. ये सब आपको फूल मंडी के आस-पास की दुकानों मिल जाएगी. अब धागा की कटिंग करने के लिए किसी समतल जमीन पर या किसी सीधी लकड़ी पर छोटी गेंदा के फूल की माला बनाने के लिए दो कील गाड़ दें जिसके बीच की दूरी 15 इंच हो. और यदि गेंदे के फूल की बड़ी माला यानि गजरा बनाना चाहते हैं तो 28 इंच की दूरी पर दो कील गाड़ें.

अब धागे के बण्डल को किसी एक कील में बांधकर दोनों खिल्लो में फेरा धुमायें. इसके बाद बीच में किसी भी जगह से कैची या ब्लेट से काट दें, इस प्रकार आपका धागा फूलों की गुहाई के लिए तैयार हो जाएगी.

सुई धागा से गेंदे के फूल की माला कैसे बनाएं

गेंदे के फूल की माला कैसे बनाएं | phool ki mala kaise banate hain

गेंदा फूल की गजरा बनाने के लिए सुई में धागे के किसी एक कनारे को डाल लें उसके बाद एक-एक फूल लेकर सुई में फूलों को डालते जाएँ. और जब सुई भर जाये तब फूलों को धागे में धीरे से सरका दें और जब धागा पूरी तरह से भर जाएँ तब दोनों किनारों को बांध दें. इस तरह आपका गेंदा के फूल की गजरा बनकर तैयार हो जायेगा.

गेंदा फूल माला की डिजाइन

अगर आप गेंदे के फूलों की माला डिजाइन में बनाना चाहते हैं तो 1 फूल पीले रंग का और 1 फूल लाल रंग का लगायें. गेंदा के गजरा की यह डिजाइन काफी खुबसुरत लगती है. और गेंदे की इस माला को लहरिया कहते है. और इसकी दूसरी डिजाइन यह है की 1 सुई भरकर पीला फूल और 1 सुई भरकर लाल फूल लगायें, फूलों के इस डिजाइन को पट्टा कहते हैं.

प्रति किलो गेंदा कीमत

फूलों का बिज़नेस कच्चा बिजनेस है क्योंकि सब्जियों की तरह यह भी अधिक दिनों तक नहीं रखा जा सकता. इसलिए इसके Gende ka phool की कीमत फिक्स नहीं रहती. फिर भी यदि प्रति किलो गेंदा के फूलों की कीमत की बात करें तो खरमास में 20 रुपये किलो से लेकर 40 रुपये किलो होती है. और शादी के सीजन, नवरात्रि, तथा दीपावली पर गेंदा के फूल प्रति किलो 80 से 120 रुपये होती है.

इसी प्रकार गेंदा के फूल की माला की बात करें तो खरमास में 3 Rupya mala से लेकर 15 रुपये प्रति Gajra mala बिकती है और वहीँ त्योहारों पर Genda phool gajra gajra की बात करे तो 15 रुपये से लेकर 32 रुपये प्रति गजरा बिकती है.

FAQ.

Q1. गेंदे के फूल कौन-कौन से हैं?

ANS. अमेरिकन रेड, अमेरिकन मेरीगोल्ड, फ्रेंच मेरीगोल्ड, सिग्नेट मेरीगोल्ड‌ या इंग्लिश मेरीगोल्ड इत्यादि.

Q2. 1 किलो गेंदे के फूल में कितनी माला बनती है?

ANS. 1 किलो गेंदे के फूल से यदि गेंदे के फूल मोटे होंगे तो 3 माला बनती है. और गेंदे के फूल छोटा होगा तो 6 से 7 माला बनती है.

Q3. गेंदे के पौधे की उम्र कितनी होती है?

ANS. गेंदे के पौधे की उम्र रोपाई से लेकर पूरी तुड़ाई तक 4 से 5 महीने तक होती है.

Q4. गेंदे की माला कितने समय तक चलती है?

ANS. गर्मियों में गेंदे की माला 2 दिन, सर्दियों में 5 दिन तथा बारिश में 1 दिन तक चलती है.

Q5. फूलों की माला को हिंदी में क्या कहते हैं?

ANS. माला, हार, फूलों की माला, गजरा.

यह भी पढ़ें:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here