आधुनिक यंत्र जिसका बुवाई में उपयोग होता है | adhunik yantra jiska mein upyog hota hai

किसान खेतों में फसलों की बुआई के लिए कृषि की दुकानों से महंगे बीज खरीदकर लाते हैं. ऐसे में उनकी यह कोशिश रहती है की बीजों का जमाव अच्छे से हो, इसलिए किसान एकसमान गहराई में समान रूप बीजों की बुआई के लिए आधुनिक कृषि यंत्रों का उपयोग करते है.

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको बीजों की बुआई करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण आधुनिक यंत्र जिसका बुवाई में उपयोग होता है के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं उम्मीद करता हूँ कि आपको यह आर्टिकल अच्छी लगेगी.

आधुनिक यन्त्र जिसका बुआई में उपयोग होता है

आधुनिक यंत्र जिसका बुवाई में उपयोग होता है
  • खुरपी
  • कुदाल
  • कल्टीवेटर
  • सीड ड्रिल

बीजों की बुआई के लिए khurpi tool का उपयोग(khurpi in agriculture)

खुरपी का उपयोग किसान प्राचीन काल से करते चला आ रहा है, आज के किसानों के पूर्वज अपने खेतों में खुरपी का उपयोग बीजों की बुआई करने तथा खेतो से खरपतवार निकलने के लिए करते थे. पुराने जमाने से लेकर आज भी खुरपी का उपयोग किसान करते चले आ रहे है.

आधुनिक खेती के तरीके से बीज की बुआई करने के बाद जब बीज अंकुरित होता है, तो देखा जाता है कि काफी जगह बीज नहीं जमते हैं. तो ऐसे स्थानों पर किसान खुरपी की सहायता से बीजों की बुआई करते हैं.

बीजों की बुआई के लिए कुदाल का उपयोग

खुरपी की तरह कुदाली भी बहुत पुराने जमाने से किसान उपयोग करते चले आ रहे हैं. प्राचीनकाल मे जब aadhunik yantra नहीं हुआ करती थीं तब किसान देशी हल का उपयोग किया करते थे. देशीहल से फसलों की बुआई करने के बाद खेत के चारो ओर बचे हुए कोनों की कुदाली से गुड़ाई करके बीजों की बुआई किया करते थे.

आज भी गाँव मे रहने वाले बहुत से छोटे की जिनके खेत मे ट्रैक्टर जाने के लिए रास्ता नहीं होता है ऐसे लोग कुदाल से पहले खेतों की गुड़ाई करते हैं, उसके बाद कुदाली से ही लाइन बनाकर एकसमान गहराई में एकसमान दूरी पर बीजों की बुआई जैसे- bajra ki kheti, गेहूं, चना, मसूर, जौ, मटर इत्यादि करते है.

बीजों की बुआई के लिए कल्टीवेटर का उपयोग

यह ट्रैक्टर से चलाया जाता है कल्टीवेटर में देशीहल की तरह 9 हल होते हैं जिसे बहुत से किसान नौफार भी कहते हैं. आज के इस आधुनिक युग में लगभग सभी किसान कल्टीवेटर से ही बीजों की बुआई करते हैं. इस कृषि यंत्र से बीजों की बुआई न तो एकसमान gehrayee में होती है, और न ही एकसमान दूरी पर.

बीज बोने के लिए सीड ड्रिल मशीन की जानकारी

बड़े किसानों के लिए पारम्परिक तरीके से बीजों की बुवाई करना बहुत कठिन होता जा रहा है. और इन बड़े कास्तकारों के लिए हाथों से बीज की बुवाई करने में जैसे- खुरपी, कुदाली, देशीहल आदि में काफी समय और मजदूर अधिक लगते हैं. इसलिए अब किसान सीड ड्रिल कृषि यंत्र मशीन से फसलों की बुआई करते हैं.

आधुनिक यंत्र जिसका बुआई में उपयोग होता है

यह कृषि यंत्र ट्रैक्टर में लगा कर चलाया जाता है. इससे सभी तरह के फसलों की बुवाई आसानी से की जा सकती है. यह एक तरह का आधुनिक कृषि यंत्र है, इससे बहोत ही कम समय में समान गहराई में एकसमान दूरी पर बीज की बुवाई की जाती है.

इस सीड ड्रिल मशीन की सबसे अच्छी खासियत यह है कि इसमें अपनी आवश्यकता के अनुसार लाइन से लाइन की दूरी तथा बीज से बीज की दूरी एवं बीज की गहराई अपने हिसाब से तय किया जा सकता है.

पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. आधुनिक यंत्र जिसका बुवाई में उपयोग होता है?

ANS. खुरपी, कुदाल, कल्टीवेटर, सीड ड्रिल.

Q. कृषि यंत्र कितने प्रकार के हैं?

ANS. रोटावेटर, मिट्टी पलटने वाला तवेदार हैरो, ट्रैक्टर, पावर टिलर, देशी हल, पावर वीडर इत्यादि.

यह भी पढ़िए

किसान झटका मशीन

गमले के लिए मिट्टी कैसे तैयार करें

गमले में धनिया की खेती

Previous articleहाइब्रिड सागौन की खेती | sagwan ki kheti
Next articleहाइब्रिड प्याज की खेती | pyaj ki kheti kab ki jaati hai | onion ki kheti

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here